DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एयर होस्टेस एक रोमांचक करियर ऑप्शन

मैं 2010-11 में 12वीं कक्षा पास करूंगी। मैं एयर होस्टेस बनना चाहती हूं। क्या मैं 12वीं के बाद यह कोर्स कर सकती हूं? मेरी लंबाई 5 फुट 4 इंच है।
श्वेता गौड़, पीलीभीत, उत्तर प्रदेश

एयर होस्टेस अनेक युवा लड़कियों के लिए रोमांचक करियर ऑप्शन है। वे इस करियर को इसलिए अपनाना चाहती हैं, क्योंकि इसमें हवाई यात्रा का रोमांच है, विभिन्न स्थानों पर जाने का अवसर है, विभिन्न तरह के लोगों से बातचीत व मिलने का मौका है और काफी आकर्षक सेलरी पैकेज है। एयरलाइंस कैबिन क्रू (एयर होस्टेस/फ्लाइट स्टुअर्ट) को भर्ती करने के लिए निम्न योग्यताओं को देखती हैं :

आयु कम से कम 25 वर्ष
न्यूनतम ऊंचाई 154.5-157.5 सेंटीमीटर
वजन हर एयरलाइंस कंपनी के मानदंडों और ऊंचाई के अनुपात में
राष्ट्रीय भाषा और एक अंतरराष्ट्रीय भाषा (अंग्रेजी) की जानकारी जरूरी
एक बेहतर व्यक्तित्व के साथ शारीरिक रूप से फिट होना भी जरूरी।

आप 12वीं के बाद सीधे एयर होस्टेस के लिए आवेदन कर सकती हैं। इस क्षेत्र में एयर लाइन हॉस्पिटेलिटी, कैबिन क्रू ट्रेनिंग, ग्राउंड हैंडलिंग, कैबिन क्रू सर्विस आदि कोर्स उपलब्ध हैं।

मैंने रेगुलर कॉलेज से बीए किया है और 99.2 प्रतिशत अंक हासिल किए हैं। एमए प्राइवेट कॉलेज से 64 प्रतिशत अंकों के साथ की है। अब मैं जामिया मिल्लिया इस्लामिया से दूरस्थ शिक्षा माध्यम से पीएचडी करना चाहता हूं। क्या आप ओबीसी श्रेणी के तहत एडमिशन प्रक्रिया के बारे में जानकारी दे सकती हैं।
के. झा सुल्तानपुर, उत्तर प्रदेश

आपने यह नहीं बताया कि आप ने बीए और एमए किस विषय में पास किए हैं, इसलिए मेरे लिए आपके प्रश्न का उत्तर देना मुश्किल है। यद्यपि भारत में अधिकतर पीएचडी प्रोग्राम करने के लिए न्यूनतम योग्यता एमफिल है। इस समय जामिया मिल्लिया इस्लामिया में कोई भी पीएचडी प्रोग्राम दूरस्थ शिक्षा के माध्यम से नहीं करवाया जाता। अधिक जानकारी के लिए जामिया मिल्लिया इस्लामिया की वेबसाइट www.jmi.nic.in पर लॉगइन कर सकते हैं।

मेरी आयु 30 वर्ष है और मैं एक गृहिणी हूं। मैंने सोशोलॉजी से बीए और एमए किया है। अब मैं राजीव गांधी साक्षरता मिशन, मथुरा से एक वर्ष का कंप्यूटर में डीटीसीसी डिप्लोमा कर रही हूं। मैं एक ऐसे क्षेत्र में करियर बनाना चाहती हूं, जिसमें वृद्ध तथा अपंग लोगों के लिए सामाजिक कार्य कर सकूं और कुछ आय भी प्राप्त कर सकूं।
किरण, मथुरा, उत्तर प्रदेश

यह जान कर अच्छा लगा कि आप एक ऐसे क्षेत्र में करियर बनाना चाहती हैं, जहां आप लोगों की सहायता कर सकें। सामाजिक कार्य उन लोगों का प्रोफेशन है, जिनमें जरूरतमंद लोगों के जीवन को ऊंचा उठाने की दृढ़ इच्छा शक्ति है। इस क्षेत्र में नौकरी की संभावनाएं एक स्पेशलाइज्ड सोशल वर्कर और सामान्य सोशल वर्कर की अलग-अलग हैं-

मेडिकल ऐड और साइकेट्रिक क्षेत्र में विशेषज्ञता वाले सोशल वर्कर अस्पतालों, क्लिनिक्स, काउंसलिंग सेंटर्स, मैंटल अस्पतालों, वृद्ध आश्रमों और ऐसे ही संस्थानों में करियर बना सकते हैं।

क्रिमिनोलॉजी में विशेषज्ञता वाले सोशल वर्क प्रोफेशनल प्रिजन्स, करेक्शन सेल और ऐसे ही संस्थानों में कार्य कर सकते हैं।

जिनकी लेबर वेलफेयर के क्षेत्र में विशेषज्ञता है, वे सोशलवर्कर के तौर पर प्राइवेट और कॉरपोरेट सेक्टर, जिसमें एमएनसीज और विभिन्न लेबर संबंधित उद्योग शामिल हैं, के एचआर विभाग में लेबर वेलफेयर रिप्रेजेंटेटिव के रूप में कार्य कर सकते हैं।

ग्रामीण स्वास्थ्य और सेनिटेशन सुविधाओं के क्षेत्र में भी समाजसेवी संस्थाओं के लिए काफी संभावनाएं हैं। यहां पर सोशल वर्कर कम्युनिटी वेलफेयर विशेषज्ञ के रूप में काम कर सकता है।

शिक्षा क्षेत्र से जुड़े समाज सेवक जरूरतमंदों में एकेडमिक और अध्यापन से जुड़ कार्य कर सकते हैं। इन सब के अतिरिक्त डब्ल्यूएचओ, यूनेस्को, यूनिसैफ और अन्य अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं के साथ जुड़ कर विकासशील देशों में, जहां विकास कैम्पेन और प्रोजेक्ट पर काम करने के लिए सामाजिक कार्यकर्ताओं की जरूरत पड़ती है, काम कर सकते हैं। ये संस्थाएं काफी अच्छा वेतन प्रदान करती हैं।

मैं 12वीं कक्षा का छात्र हूं। मैं एनडीए के बारे में विस्तार से जानना चाहता हूं। मुझे नेवी और एयर फोर्स में जाने की प्रक्रिया के बारे में भी जानकारी दें।
मिथुन प्रकाश, बरेली, उत्तर प्रदेश

नेशनल डिफेंस एकेडमी की विभिन्न विंग्स सेना, जलसेना और वायुसेना में उम्मीदवारों की भर्ती नेशनल डिफेंस एकेडमी एंट्रेंस एग्जाम के माध्यम से होती है, जो साल में दो बार, सामान्यतया अप्रैल और सितम्बर में आयोजित किए जाते हैं। एनडीए परीक्षा यूनियन पब्लिक सर्विस कमिशन (यूपीएससी) द्वारा आयोजित की जाती है। उम्मीदवार को अविवाहित पुरुष होना चाहिए। कोर्स और ट्रेनिंग तीन साल की है। उम्मीदवार को सबसे पहले दो एकेडमिक्स-नेशनल डिफेंस एकेडमी ओर नेवल एकेडमी (एग्जीक्यूटिव ब्रांच) में से किसे प्राथमिकता देना चाहता है, उसका चयन करना होगा। उम्मीदवार यदि एनडीए का अपनी प्रथम पसंद के रूप में चयन करता है, तब उसे एनडीए की तीन विंग्स-आर्मी, नेवी और एयर फोर्स में पहली पसंद तय करनी होगी और उसके बाद नेवल एकेडमी को। यदि वह विकल्प के रूप में अपनी पहली पसंद नेवल एकेडमी के रूप में तय करता है तो उसके बाद उसे एनडीए की तीनों विंग्स में अपनी प्राथमिकता तय करनी होगी। इस सब के बावजूद अंतिम निर्णय मैरिट लिस्ट में आपके द्वारा प्राप्त रैंक पर ही निर्भर करेगा।

मैं कानपुर विश्वविद्यालय (प्राइवेट) में एमए दूसरे साल का छात्र हूं। मैंने लखनऊ विश्वविद्यालय से बीएससी (मैथ्स) 49 प्रतिशत अंकों से किया है, इस लिए मैं इस रिपीट करना चाहता हूं। क्या मैं एमए के साथ कानपुर विश्वविद्यालय से बीए भी कर सकता हूं? यदि नहीं तो मेरे लिए अन्य ऑप्शन क्या हैं?
आशीष मिश्र, लखनऊ

आप पहले ही अपनी बीएससी डिग्री के आधार पर एमए में प्रवेश ले चुके हैं, इसलिए ग्रेजुएशन को रिपीट करने की कोई जरूरत या फायदा नहीं है। आपके भविष्य की संभावनाओं पर इससे कोई असर नहीं पड़ता, क्योंकि एंप्लॉयर नौकरी देते समय अंतिम शैक्षिक योग्यता को ही प्राथमिकता देता है। यह इसलिए भी संभव नहीं है, क्योंकि एमए के साथ बीए नहीं किया जा सकती। एमए इन मैथ्स करने के बाद आपके पास अनेक अवसर उपलब्ध होंगे, जैसे स्टेटिस्टिक क्षेत्र, मैनेजमेंट, अध्यापन, कंप्यूटर या सॉफ्टवेयर और बैंकिंग।

अगर अपनी शिक्षा और करियर को लेकर आपके जेहन में भी कोई सवाल है तो लिख भेजें-सलाह, नई दिशाएं, हिन्दुस्तान, 18-20 कस्तूरबा गांधी मार्ग, नयी दिल्ली-110001 या मेल करें- naidishayen@hindustantimes.com

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एयर होस्टेस एक रोमांचक करियर ऑप्शन