DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एक्सएलआरआई, जमशेदपुर: मुकाबले के साथ मैत्री का पाठ

एक्सएलआरआई, जमशेदपुर: मुकाबले के साथ मैत्री का पाठ

शैक्षिक अनुशासन के साथ सामुदायिक भावनाओं को बढ़ावा देता है एक्सएलआरआई। एचटी बी-स्कूल रैंकिंग में इस संस्थान को छठा स्थान मिला है।

एक्सएलआरआई को गर्व है कि उसने अपने यहां ऐसी संस्कृति को बढ़ावा दिया, जो शैक्षिक अनुशासन और प्रतिस्पर्धा के साथ मैत्रीभाव को बढ़ावा देती है। शिक्षक और छात्र के बीच मजबूत संबंध (शिक्षक और छात्र अनुपात यहां 1:9 है) और समुदाय के साथ जुड़ाव की भावना एक्सएलआरआई को भीड़ से अलग खड़ा कर देती है। 

एक्सएलआरआई एलुमनाई एसोसिएशन के सचिव और निदेशक कार्यालय के प्रवक्ता रोशन एन. दस्तूर के अनुसार एक्सएलआरआई में जीवन की समृद्धि एक ऐसी खासियत है, जो अन्य बिजनेस स्कूलों से उसे आगे कर देती है। यहां के छात्र-छात्राओं द्वारा निर्मित पचास सालों की संस्कृति और परिवेश इतना अद्भुत है कि यहां जीवनभर के संबंध बन जाते हैं।
रोशन यह भी कहती हैं कि क्लासरूम में छात्रों के बीच कड़ी प्रतिस्पर्धा का माहौल होने के बावजूद कक्षा से बाहर का वातावरण काफी दोस्ताना है।

बिजनेस मैनेजमेंट द्वितीय वर्ष के छात्र आशुतोष शुक्ला इस बात से अपनी सहमति जताते हैं। वह कहते हैं, एक्सएलआरआई की सामूहिक श्रेष्ठता को बढ़ावा देने की अद्भुत संस्कृति इसे दूसरे बी-स्कूलों से अलग कर देती है। यह माहौल यहां अंतहीन सौहार्द, विश्वास और भावी प्रबंधकों और नेताओं में सम्मान का भाव उत्पन्न करता है। आशुतोष के अनुसार यह कॉलेज छात्र-छात्राओं को श्रेष्ठ प्रदर्शन और अपने लक्ष्यों को हासिल करने के लिए प्रेरित करता है। साथ ही सामाजिक जागरूकता के प्रति भी यह संस्थान उतना ही सजग रहता है। 

एक्सएलआरआई के एकेडमिक डीन प्रनाभेष रे के अनुसार, सोशल इंटरप्रिन्योरशिप ट्रस्ट की स्थापना सामाजिक हितों से संबंधित उद्यमशीलता को बढ़ावा देना और उसे समर्थन देना है। इसी तरह विलेज एक्सपोजर प्रोग्राम की शुरुआत नेतृत्व क्षमता और टीम भावना का विकास करने और छात्रों को भारत की वास्तविकताओं से परिचय कराने के उद्देश्य से की गई है। संस्थान ने दो गांवों को अगले पांच साल के लिए एडॉप्ट किया है।एक्सएलआरआई बिजनेस मूल्यों पर भी जोर देता है। यह देश में पहला बी-स्कूल है, जिसने बिजनेस एथिक्स पर कोर पाठय़क्रम शुरू किया है।

संस्थान में पिछले दो दशकों से पढ़ा रहे मधुकर शुक्ला के अनुसार हमारा फोकस छात्र-छात्राओं का संपूर्ण विकास करना है।

कुछ खास दिनों में छात्रों को कैंपस में 12 घंटे से अधिक का समय बिताना पड़ता है। छात्रों को छह सत्रों में 41 कोर्स पूरे करने होते हैं। प्रत्येक क्लासरूम सत्र 90 मिनट तक रहता है। एक्सएलआरआई में आईएसओ सर्टिफाइड मेस और लाइब्रेरी है। यहां की लाइब्रेरी 24 घंटे खुली रहती है। भारतीय बी-स्कूलों में कुछेक ही ऐसी लाइब्रेरी हैं, जहां किताबें इश्यू करने और ट्रैकिंग के लिए रेडियो फ्रीक्वेंसी आईडेंटिफिकेशन डिवाइस सिस्टम लगा हुआ है।

पिछले कुछ सालों से एक्सएलआरआई में 100 प्रतिशत प्लेसमेंट रहा है।

कंस्ट्रक्शन इक्विप्मेंट फर्म टेल्कॉन और एक्सएलआरआई एलुमनाई एसोसिएशन जमशेदपुर के अध्यक्ष रणवीर सिन्हा के अनुसार एग्जीक्युटिव्स हायर करने के लिए यह संस्थान एक आदर्श स्थान है। देश के बी-स्कूलों में श्रेष्ठ होने के कारण यहां छात्रों को विभिन्न एग्जीक्युटिव्स प्रोग्राम्स के लिए भी भेजा जाता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एक्सएलआरआई, जमशेदपुर: मुकाबले के साथ मैत्री का पाठ