DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो टूक (20 अक्टूबर, 2010)

सरकार गुटखा के प्लास्टिक पैकेटों के खतरों से खासी चिंतित है। इसलिए उसने, बकौल सॉलिसिटर जनरल, आकलन समिति बनाई है।

इन पैकेटों में भरे उन गुटखों पर सरकार को कोई चिंता नहीं, जिससे बेहिसाब लोग कैंसर के शिकार हो रहे हैं। है न सुनकर हंसनेवाली बात।

भला हो सुप्रीम कोर्ट का कि सरकारी वकील से सवाल पूछ लिया। लेकिन सरकार से कोई उम्मीद नहीं, इससे तगड़ी कमाई जो हो रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दो टूक (20 अक्टूबर, 2010)