अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विकास ने जातीय समीकरण को ध्वस्त कियाः आजाद

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता एवं सांसद कीर्ति झा आजाद ने बिहार विधानसभा चुनाव में त्रिशंकु विधानसभा की संभावनाओं को सिरे से खारिज करते हुए दावा कि पिछले पांच साल में राज्य की राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार ने जिस तरह के विकास कार्य किए है, उसने राज्य में जातीय समीकरण को पूरी तरह ध्वस्त कर दिया है।

आजाद ने मंगलवार को कहा कि राज्य की राजग सरकार ने प्रदेश में करीब पांच वर्ष पूर्व जब सत्ता संभाली थी तो चुनाव में जातीय समीकरण की महत्वपूर्ण भूमिका होती थी लेकिन राज्य सरकार के विकास कार्यों ने इस समीकरण को पूरी तरह ध्वस्त कर दिया है। अब तो विरोधी दल भी सभी मुद्दों को छोड़कर विकास की बात करने लगे हैं।

उन्होंने कहा कि राजग सरकार के कार्यकाल में बिहार में शिक्षा स्वास्थ्य कानून व्यवस्था समेत सभी क्षेत्रों में उल्लेखनीय प्रगति हुई है। भाजपा सांसद ने विभिन्न टेलीविजन चैनलों पर चुनाव पूर्व कि सर्वेक्षण के परिणामों पर कहा कि सभी सर्वेक्षण बिहार में राजग की सरकार बनने की संभावना जता रहे हैं।

हालांकि उन्होंने कहा कि मतदाताओं का मन पढ़ना आसान नहीं है क्योंकि हर तीन-चार दिन पर लोगों को मन बदलता रहता है और इसके लिए कई चीजें जिम्मेवार होती हैं। उन्होंने कहा कि सर्वेक्षण एक हद तक ही भविष्यवाणी कर सकता है जबकि जमीनी लड़ाई लगातार बदलती रहती है।

भाजपा नेता ने कहा कि राजग सरकार के कार्यों को लेकर लोगों का सरकार के प्रति विश्वास बढ़ा है और लोग चुनाव को लेकर उत्साहित हैं। उन्होंने कहा कि सरकार ने समाज के सभी वर्गों को लेकर साथ चलने का काम किया है जिससे बिहार के लोगों की सोच में बदलाव आया है।

उन्होंने अपनी पार्टी की संभावनाओ को लेकर पूछे गए एक प्रश्न के उत्तर में कहा कि पिछली बार की तुलना में निश्चित रूप से इस बार उनकी सीटों की संख्या में बढ़ोतरी होगी। उन्होंने कहा कि मिथिलांचल क्षेत्र में भाजपा पहले के मुकाबले मजबूत हुई है और इस बार के चुनाव में इस क्षेत्र से पार्टी को काफी सीटें मिलने की संभावना हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:विकास ने जातीय समीकरण को ध्वस्त कियाः आजाद