DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लड़कों को असंवेदनशील बना रहे हैं हिंसात्मक टीवी कार्यक्रम

लड़कों को असंवेदनशील बना रहे हैं हिंसात्मक टीवी कार्यक्रम

टेलीविजन यानी बुद्धू बक्से के कारण किशारों पर पड़ने वाले प्रभावों पर हो चुके तमाम तरह के अध्ययनों के बाद हाल में ही किए गए एक नए अध्ययन में यह बात सामने आई है कि जो किशोर लगातार क्रूरतापूर्ण टेलीविजन कार्यक्रमों, फिल्मों और वीडियो गेम को तवज्जो देते हैं उनके असंवेदनशील और हिंसात्मक बनने की संभावना उतनी ही ज्यादा होती है।

इस अध्ययन में अध्ययनकर्ताओं ने पाया है कि सिनेमा में दिखाई जाने वाली हिंसा का किशोरों के दिमाग पर बहुत गहरा असर पड़ता है। इसका कारण यह है कि किशोरों के मस्तिष्क का वह भाग जो भावनाओं और आवेगों को नियंत्रित कर बाहरी घटनाओं पर प्रतिक्रिया देता है और जो गलत कामों के प्रति एक ब्रेक की तरह काम करता है वह किशोरावस्था के दौरान बहुत ज्यादा संवेदशील होता है। इन चलचित्रों के कारण उसपर आसानीपूर्वक क्षति पहुंच जाती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लड़कों को असंवेदनशील बना रहे हैं हिंसात्मक टीवी कार्यक्रम