DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अमर सिंह का मुलायम पर फिर कठोर प्रहार

अमर सिंह का मुलायम पर फिर कठोर प्रहार

समाजवादी पार्टी [सपा] से निष्कासित नेता अमर सिंह ने सोमवार को सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव पर निशाना साधते हुए कहा कि उन्होंने सत्ता का साथ होने के बावजूद मुसलमानों पर जुल्म होते देखा, लिहाजा वह इस कौम के गुनहगार हैं।

सिंह ने यहां देश के मौजूदा हालात और मुसलमान विषय पर आयोजित कार्यक्रम में मुलायम के साथ-साथ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी पर भी तीखा प्रहार किया। पार्टी विरोधी गतिविधियों के आरोपों के चलते पिछले वर्ष सपा से निकाले गए सिंह ने मुलायम पर शायराना अंदाज में शब्द बाण चलाते हुए कहा कि मैं समझता था कि वफा के बदले वफा मिलती है, जो वफा भी काम न आए तो बताइये हम क्या करें।

उन्होंने मुलायम की तरफ इशारा करते हुए कहा चौदह वर्ष तक जिनकी जबान को कुरान की आयत और गीता का श्लोक समझा, उन्हीं ने हमें रुसवा किया। सिंह ने कहा कभी हमारे बगलगीर रहे मुलायम वर्ष 2003 में जनादेश की वजह से नहीं, बल्कि मेरी कलाकारी से उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने रह सके थे।

उन्होंने कहा कि मुझे सिनेमावालों को और भाजपा के पूर्व नेता कल्याण सिंह को सपा में लाने वाला बताकर पार्टी से निकाला गया था, लेकिन मैं पूछता हूं कि राजबब्बर को पार्टी में कौन लाया और विश्व हिन्दू परिषद के वरिष्ठ विष्णु हरि डालमिया के बेटे संजय डालमिया को सपा का कोषाध्यक्ष तथा पार्टी सांसद किसने बनाया।

सिंह ने कहा कि मैं मुलायम सिंह को चुनौती देता हूं कि वह ऐलान करें कि उत्तर प्रदेश में वर्ष 2012 में होने वाले विधानसभा चुनाव के बाद यदि सपा की सरकार बनती है तो वह खुद या अपने बेटे के बजाय किसी मुसलमान को राज्य का मुख्यमंत्री बनाएंगे। उन्होंने कहा कि मुलायम ने बाबरी मस्जिद ढहाने के इल्जाम का बोझ ढो रहे पूर्व भाजपा नेता कल्याण सिंह से गलबहियां कीं। उनके बेटे राजवीर सिंह को अपने मंत्रिमण्डल में शामिल किया। मैंने सपा में ही रहते हुए वह सब कुछ चुपचाप देखा। इसके लिये मैं मुसलमानों का गुनहगार और सजा का पात्र हूं।

सिंह ने कहा कि मुसलमानों को अगर अपनी दयनीय हालत में सुधार करना है तो उन्हें दूसरी पार्टियों के पीछे जाने के बजाय अपना नेतृत्व तैयार करना होगा। हालांकि, उन्होंने साफ कहा कि उनका किसी भी सियासी पार्टी में शामिल होने का कोई इरादा नहीं है और न ही वह कोई राजनीतिक दल बनाने जा रहे हैं।

सिंह ने भाजपा नेता आडवाणी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर निशाना साधते हुए कहा कि मैं आडवाणी जी से ज्यादा बड़ा हिन्दू हूं। अगर मेरे जैसा हिन्दू मुसलमानों का दर्द नहीं रोकेगा तो उनकी तकलीफ विस्फोट का रूप ले लेगी। उनकी चिंता करना मेरी जिम्मेदारी है। इस दायित्व को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और आडवाणी क्यों नहीं समझते।

उन्होंने अपने धुर विरोधी रहे सपा के पूर्व नेता आजम खां पर भी कटाक्ष करते हुए कहा कि मुझे अपना दुश्मन कहने वाले आजम खां को मुलायम सिंह ने एक बार अपने नौकर से भी बदतर तरीके से डांटा-फटकारा था। उस वक्त मैंने ही आजम का बचाव किया था। शायद आजम वह बात भूल गए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अमर सिंह का मुलायम पर फिर कठोर प्रहार