DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

निजी डॉक्टरों ने की वेतन बढ़ाने की मांग

उत्तराखंड के सबसे बड़े चिकित्सा केन्द्र दून अस्पताल में तैनात छह सुपरस्पेशलिस्ट डाक्टरों के वेतन बढ़ोत्तरी का मामला अधर में लटक गया है। ये डाक्टर वेतन वृद्धि की मांग कर रहे हैं जबकि इसके विपरीत सरकारी डॉक्टर इनसे सरकारी अस्पताल में निजी प्रैक्टिस करने पर कमीशन वसूलने की मांग उठा रहे हैं।

स्वास्थ्य सचिव की अध्यक्षता में शनिवार को दून अस्पताल में हुई बैठक में फिलहाल सुपरस्पेशलिस्ट डाक्टरों के वेतन वृद्धि पर कोई अंतिम फैसला नहीं हुआ। सूत्रों के अनुसार इस बार शासन संविदा पर तैनात सुपरस्पेशलिस्टों के नखरे सहने के मूड में नहीं है।

लगभग चार साल पहले सरकार ने राज्य के सबसे बड़े दून अस्पताल को हर लिहाज से संपन्न बनाने के लिए इन सुपरस्पेशलिस्टों को नियुक्त किया था लेकिन अब इन डाक्टरों पर सरकारी अस्पताल में अपने क्लीनिक का प्रचार करने का आरोप है।

सूत्रों का कहना है कि सरकारी डाक्टर भी इन डाक्टरों को मिल रही भारी भरकम पगार से नाखुश हैं इसलिए सरकार से मांग की जा रही है कि वह इन्हें वेतन बढ़ाने के बजाए इनसे कमीशन वसूला जाए क्योंकि ये मरीजों को विभिन्न टेस्ट के नाम पर अपने क्लीनिकों में भेज देते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:निजी डॉक्टरों ने की वेतन बढ़ाने की मांग