DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुंबई हमलाः हेडली की दो पत्नियों ने किया था आगाह

मुंबई हमलाः हेडली की दो पत्नियों ने किया था आगाह

मुंबई हमलों से एक वर्ष से भी कम समय पहले ही डेविड हेडली की मोरक्को निवासी पत्नी ने पाकिस्तान स्थित अमेरिकी अधिकारियों को आगाह कर दिया था कि उसका पति किसी आतंकवादी हमले की साजिश रच रहा है।

द न्यूयॉर्क टाइम्स ने खबर दी कि बहरहाल, ऐसा पहली बार नहीं हुआ था जब अधिकारियों को पाकिस्तानी मूल के इस अमेरिकी आतंकवादी हेडली के बारे में आगाह किया गया था। वर्ष 2005 में हेडली की एक और पत्नी ने भी एफबीआई को बताया था कि उसके पति के लश्कर-ए-तैयबा से संबंध हैं।

अखबार की खबर कहती है, तीन में से दो पत्नियों के आगाह किये जाने के बावजूद हेडली लश्कर के लिए 2002 से 2009 के बीच आसानी से घूमता रहा। उसने छोटे कैलिबर वाले हथियार चलाने, जवाबी निगरानी करने, हमलों के लिये टोह लेने और शिकागो से लेकर पाकिस्तान की अराजक पश्चिमोत्तर सीमा तक संपर्क तंत्र स्थापित करने का प्रशिक्षण हासिल किया।

खबर के मुताबिक कि यह स्पष्ट नहीं है कि अमेरिकी अधिकारियों ने वादामाफ गवाह बनने की दर्ख्वास्त कर चुके और प्रशासन से सहयोग करने की बात कह चुके हेडली के बारे में दी गयी चेतावनी पर क्या किया और क्या पति से तल्ख संबंध हो जाने के बाद उसकी पत्नियों द्वारा दी गयी जानकारी को प्रशासन ने महज बतौर शिकायत ही लिया।

द न्यूयॉर्क टाइम्स की खबर संकेत देती है कि अमेरिकी अधिकारियों के चेतावनियों को नजरअंदाज कर देने का कारण यह हो सकता है कि वे जांच को उस दिशा में ले जाने से बचना चाहते हों जो हमलों में अमेरिका के अहम सहयोगी पाकिस्तान की संलिप्तता के सबूत देती हो। आईएसआई हमलों में अपनी संलिप्तता का खंडन कर चुका है।

अखबार के मुताबिक, अमेरिका ने कहा है कि (आईएसआई के खंडन के) जवाब में उसके पास कोई सबूत नहीं है। बहरहाल, अधिकारी यह स्वीकार करते हैं कि आईएसआई के कुछ मौजूदा या सेवानिवृत्त अफसरों की हमलों में कुछ भूमिका हो सकती है।

उधर, अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के प्रवक्ता माइक हैमर ने शनिवार को एक बयान जारी कर कहा कि अमेरिका ने 2008 में हुए मुंबई हमलों से पहले भारतीय अधिकारियों को खतरों के बारे में नियमित तौर पर जानकारी दी थी। उन्होंने कहा कि अगर हमें मुंबई हमलों के समय और उसके बारे में विशिष्ट जानकारी मालूम होती तो हम ऐसे विवरण को तुरंत भारत सरकार के साथ साझा भी करते।

खबर कहती है कि चेतावनियों पर कार्रवाई नहीं होना आतंकवाद के खिलाफ जंग में संपर्क संबंधी खामी हो सकती है और इससे ये सवाल भी खड़े होते हैं कि क्या अमेरिकी अधिकारियों ने हेडली के नशा निरोधी प्रवर्तन प्रशासन (डीईए) का मुखबिर होने के चलते इस संबंध में अधिक तफ्तीश नहीं की।

संघीय प्रशासन ने कहा है कि अमेरिकी अधिकारियों ने चेतावनियों पर पड़ताल की लेकिन साथ ही वह हेडली और लश्कर-ए-तैयबा के बीच संबंध होने की बात का पता नहीं लगा सके। वहीं, डीईए ने हेडली के पहला आतंकवादी प्रशिक्षण कथित तौर पर हासिल करने से दो महीने पहले ही जोर दिया था कि विभाग 2001 में ही हेडली से संबंध तोड़ चुका था।

द न्यूयॉर्क टाइम्स के मुताबिक, लेकिन कुछ भारतीय अधिकारियों को संदेह है कि हेडली के अमेरिकी नशा निरोधक एजेंसी के साथ संबंध कुछ ज्यादा समय तक बने रहे।

जनहित में खोजी पत्रकारिता करने वाले अलाभकारी स्वतंत्र संगठन प्रोपब्लिका ने बीते शुक्रवार खबर दी थी कि हेडली की अमेरिकी पत्नी ने न्यूयॉर्क में एफबीआई को कुछ जानकारी दी थी।

खबर के अनुसार, मुंबई में 166 लोगों की जान ले चुके हमले की साजिश में अहम भूमिका अदा करने वाले डेविड कोलमैन हेडली के खिलाफ पूर्व में उसकी पत्नी ने घरेलू विवाद होने के चलते आरोप लगाये थे। बाद में हेडली को 2005 में इसी घरेलू विवाद के चलते गिरफ्तार किया गया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुंबई हमलाः हेडली की दो पत्नियों ने किया था आगाह