अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पंचांग

पंचक प्रारम्भ रात्रि 8 बजकर 15 मिनट से। श्री विजयादशमी। विजय मुहूर्त्त मध्याह्न 1 बजकर 51 मिनट से 2 बजकर 34 मिनट तक। कावेरी संक्रमण स्नान। सूर्य दक्षिणायन। सूर्य दक्षिण गोल। शरद ऋतु। सायं 4 बजकर 40 मिनट से 6 बजे तक राहु कालम्। 
पंचांग
सूर्य : कन्या राशि में, चंद्रमा : मकर राशि में, बुध : कन्या राशि में, शुक्र : तुला (वक्री) राशि में, मंगल : तुला राशि में, बृहस्पति : मीन (वक्री) राशि में, शनि : कन्या राशि में, राहु : धनु राशि में, केतु : मिथुन राशि में।
17 अक्टूबर, रविवार 25 आश्विन (सौर) शक् 1932, कात्तिर्क मास 2 प्रविष्टे 2067, 8 जिल्काद सन् हिजरी 1431, आश्विन शुक्ल दशमी रात्रि 8 बजकर 28 मिनट तक उपरांत एकादशी, श्रवण नक्षत्र प्रात: 6 बजकर 43 मिनट तक तदनंतर घनिष्ठा नक्षत्र, शूल योग रात्रि 8 बजे तक पश्चात् गण्ड योग, तैतिल करण, चन्द्रमा रात्रि 8 बजकर 13 मिनट तक मकर राशि में उपरांत कुंभ राशि में।           

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पंचांग