अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ओबामा से बातचीत में वीजा-आउटसोर्सिंग का मुद्दा उठाएंगे प्रधानमंत्री

ओबामा से बातचीत में वीजा-आउटसोर्सिंग का मुद्दा उठाएंगे प्रधानमंत्री

भारत ने शुक्रवार को परमाणु दायित्व विधेयक पर अमेरिकी कंपनियों की इस आशंका को दूर करने का प्रयास किया कि यह विधेयक उनके खिलाफ है। साथ ही नई दिल्ली ने यह भी कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की अगले महीने होने वाली यात्रा के दौरान आउटसोर्सिंग और वीजा नियमों का मुद्दा उठाया जाएगा।

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और ओबामा की बातचीत में जिन मुद्दों पर चर्चा होनी है उनमें चीन का बढ़ता दबदबा भी शामिल है। दोनों नेता रणनीतिक सहयोग बढ़ाने के तरीकों पर विचार करेंगे।

विदेश मंत्री एसएम कृष्णा ने परमाणु दायित्व विधेयक को लेकर अमेरिकी कंपनियों की आशंका दूर करने का प्रयास किया और कहा कि इससे अमेरिकी कंपनियों के हित प्रभावित नहीं होंगे बल्कि अन्य देशों की कंपनियों के लिए समान अवसर सुनिश्चित होंगे। कृष्णा ने यहां कहा कि (भारत और अमेरिका के बीच) परमाणु करार बहुत बड़ी चीजों में एक है और जिसके इर्द गिर्द कई मुद्दे घूम रहे हैं।

ओबामा पांच दिनों की यात्रा पर पांच नवंबर को आ रहे हैं और समझा जाता है कि सिंह के साथ उनकी बातचीत में परमाणु मुद्दा उठेगा। संसद के मानसून सत्र में पारित परमाणु दायित्व विधेयक को लेकर अमेरिकी कंपनियों की आशंकाओं पर कृष्णा ने कहा कि उन्होंने इस मुद्दे पर अमेरिकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन से चर्चा की और अमेरिकी पक्ष को आश्वस्त किया कि परमाणु दायित्व विधेयक किसी खास देश को ध्यान में रखकर पारित नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि इस विधेयक के पीछे सब को समान अवसर उपलब्ध कराने का विचार है और यह बात फ्रांस, रूस तथा अन्य देशों को भी बता दी गयी है ।

कृष्णा ने कहा कि जब बात आगे बढ़ेगी तो हर तरह की आशंका का निवारण किया जाएगा। उन्होंने इच्छुक कंपनियों को इस क्षेत्र में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया और कहा कि गुण दोष के आधार पर निर्णय लिया जाएगा।
     
ओबामा की यात्रा और बातचीत के दौरान उठने वाले मुद्दों की चर्चा करते हुए कृष्णा ने कहा कि भारतीय आईटी कंपनियों ने आउटसोर्सिंग पर अमेरिकी फैसलों और भारतीय के लिए वीजा नियमों को कठोर करने पर आपत्ति प्रकट की है। विदेश मंत्री ने कहा कि निश्चित तौर पर, ये मुद्दे बातचीत के दौरान उठेंगे।

हालांकि उनका कहना था कि दोनों देशों के बीच कई समानताएं इतनी निर्णायक हैं कि कुछ मुद्दों पर अलग अलग अवधारणाओं से द्विपक्षीय संबंधों पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा। जब उनसे पूछा गया कि सिंह और ओबामा के बीच बातचीत में चीन के बढ़ते दबदबे पर भी चर्चा होगी, कृष्णा ने कहा कि विभिन्न मुद्दों में यह भी एक मुद्दा होगा क्योंकि चीन वैश्विक मामलों में एक महत्वपूर्ण कारक है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ओबामा से बातचीत में वीजा-आउटसोर्सिंग का मुद्दा उठाएंगे प्रधानमंत्री