अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मनलायक नौकरी न हो तो दिमाग पर होगा बुरा असर

मनलायक नौकरी न हो तो दिमाग पर होगा बुरा असर

अगर आप चाहते हैं दिमागी तौर पर तंदुरूस्त रहना तो केवल नौकरी हो यही काफी नहीं है। इसके लिए आपकी नौकरी आपके मन-माफिक होनी चाहिए जिससे आपको संतुष्टि मिलती हो।
 
ऑस्ट्रेलिया नेशनल यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने पाया कि जिनके पास मन लायक नौकरी नहीं है या जो अपनी नौकरी को लेकर असुरक्षा की भावना और काफी मानसिक तनाव रखते हैं, उनकी हालत बेरोजगार की माफिक होती है।
   
अध्ययन के मुताबिक, रोजगार का मतलब हमेशा अच्छा मानसिक स्वास्थ्य ही नहीं होता। अगर किसी व्यक्ति को बेरोजगारी से निजात मिल जाए लेकिन उसकी नौकरी सही नहीं हो तो उसका मानसिक तनाव बेरोजगारों से ज्यादा होगा।
   
शोध को अंजाम देने वाले दल की अगुवा डॉ़ लियाना लिच ने बताया कि हमने पाया कि असुरक्षित नौकरी, अच्छे भविष्य की गारंटी नहीं देने वाली नौकरी या मानसिक तनाव देने वाली नौकरी करने वाली व्यक्ति की मानसिक हालत बेरोजगार व्यक्ति से बेहतर नहीं होती। उन्होंने कहा कि शोध में पाया गया कि बिना रोजगार वाले व्यक्ति को जब बुरी नौकरी मिली तो वे और ज्यादा अवसाद ग्रस्त हो गए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मनलायक नौकरी न हो तो दिमाग पर होगा बुरा असर