DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ऋषि कपूर तो झट से राजी हो गए थे : अरिंदम

ऋषि कपूर तो झट से राजी हो गए थे : अरिंदम

मैनेजमैंट गुरु एवं निर्माता अरिंदम चौधरी की ‘रोक सको तो रोक लो’, ‘फालतू’ (बांग्ला), ‘मिथ्या’ जैसी फिल्मों में दर्शकों के लिए मनोरंजन के अलावा एक संदेश भी जरुर रहा है। पिछले सप्ताह रिलीज हुई उनकी फिल्म ‘दो दूनी चार’ दिल्ली के एक मध्यवर्गीय परिवार के दोपहिया स्कूटर से कार तक पहुंचने की जद्दोजहद को हल्के-फुल्के ढंग से दिखलाती है। पेश है इस संबंध में अरिंदम से हुई बातचीत के कुछ अंश।

क्या संदेश देना चाहते थे इस फिल्म से?
संदेश बड़ा ही सीधा है कि जिंदगी में गाड़ी, टीवी फ्रिज जैसी चीजों की अहमियत तो है, लेकिन इन सबसे ज्यादा अहम है परिवार और परिवार के सदस्यों का आपसी प्यार।
 
इस फिल्म के निर्देशक हबीब फैजल नए हैं। उन पर भरोसा करने की वजह?
हबीब साहब ‘सलाम नमस्ते’ और ‘झूम बराबर झूम’ जैसी फिल्मों की स्क्रिप्ट लिख चुके हैं। हम हमेशा ऐसे लोगों के साथ ही काम करना चाहते हैं, जिनके लिए स्क्रिप्ट ही हीरो हो। हबीब साहब को स्क्रिप्ट की गहरी समझ है और उनकी काबिलियत पर भरोसा न करने की कोई वजह नहीं थी।

ऋषि कपूर और नीतू सिंह की जोड़ी को दशकों के बाद साथ लेने का फैसला कैसे किया?
ऋषि जी को लेने का फैसला तो स्क्रिप्ट लिखे जाने के स्तर पर ही हो गया था। उनके साथ नीतू जी को लेने की बात भी हमारे मन में आई, क्योंकि इस फिल्म में दुग्गल दंपती की जो कैमिस्ट्री हम दिखाना चाहते थे, वह यह दोनों ही अच्छी तरह से दिखा सकते थे।

क्या नीतू जी आसानी से मान गई थीं?
ऋषि जी तो एक बार में ही राजी हो गए थे, लेकिन उन्होंने कहा कि नीतू जी शायद न मानें, क्योंकि वह अपनी वापसी किसी बड़ी फिल्म से करना चाहती हैं। पर जब नीतू जी ने कहानी सुनी तो वह भी मान गईं और आप देखिए कि पर्दे पर तीस साल के बाद आई इनकी जोड़ी की कैमिस्ट्री अभी भी बरकरार है।

पर आपकी इस फिल्म में कोई बिकाऊ स्टार, कोई आइटम नंबर, कोई मसाला नहीं है। आज के जमाने में क्या एक निर्माता के लिए यह जोखिम भरा काम नहीं होता?
हम हमेशा यही सोच कर फिल्म बनाते हैं कि हमें एक अच्छी कहानी कहनी है और मसालों में लपेटे बिना लोगों तक पहुंचाना है। लेकिन साथ ही हम अपने बजट को भी टाइट रखते हैं। अगर फिल्म की मार्केट हमें छोटी लगती है तो हम उसका बजट भी उसी के मुताबिक रखते हैं।

आप ने खुद ‘रोक सको तो रोक लो’ के बाद कुछ डायरेक्ट नहीं किया?
उस फिल्म से काफी सीख मिली कि अगली बार गलतियां न हों। बहुत जल्द मैं एक फिल्म शुरु करूंगा, जिसकी स्क्रिप्ट पर अभी काम चल रहा है।

और कौन-सी फिल्म लेकर आ रहे हैं?
हमारी एक फिल्म ‘आई एम 24’ बन कर तैयार है। आशा है कि उसे इसी साल रिलीज कर देंगे। इसके अलावा कई प्रोजेक्ट्स पर काम चल रहा है, जिन्हें हम अगले साल शुरु करेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ऋषि कपूर तो झट से राजी हो गए थे : अरिंदम