DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खेल गांव की सफाई के श्रेय को लेकर एलजी नाखुश

राजधानी दिल्ली में आयोजित उन्नीसवें राष्ट्रमंडल खेलों का अभी समापन भी नहीं हुआ है कि उनकी सफलता का श्रेय लेने के लिए होड़ लग गई है। खेल गांव की सफाई का पूरा श्रेय मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के स्वयं लेने से खिन्न उपराज्यपाल तेजेन्द्र खन्ना ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखा है कि यह काम केवल एक एजेंसी के प्रयासों से ही पूरा नहीं हुआ है।

सात अक्टूबर को प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में खन्ना ने कहा कि खेल गांव की सफाई को लेकर जिस प्रकार से दावा किया गया है वह सही तथ्यों पर आधारित नहीं है और इससे अन्य एजेंसियों के उन कर्मचारियों का मनोबल प्रभावित हुआ है जो पूरी निष्ठा से एक टीम भावना के साथ इस काम में जुटे रहे।

यमुना के किनारे बनाए गए खेल गांव की सफाई व्यवस्था को लेकर खेल शुरू होने से एक सप्ताह पहले तक यहां आने वाले कई देशों के खिलाडियों-अधिकारियों ने शिकायत की थी और इसे रहने के योग्य नहीं बताया था। इसके बाद दिल्ली सरकार को सफाई व्यवस्था का काम सौंपा गया था।

दिल्ली के महापौर पृथ्वी राज साहनी, दिल्ली नगर निगम में सदन के नेता सुभाष आर्य और निगम की स्थाई समिति के अध्यक्ष योगेन्द्र चंदोलिया पहले ही खेलों की विभिन्न व्यवस्था पर निगरानी के लिए प्रधानमंत्री द्वारा गठित मंत्रियों के समूह के अध्यक्ष केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री जयपाल रेड्डी से मुलाकात कर निगम के कार्यों की उपेक्षा किए जाने की शिकायत कर चुके हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:खेल गांव की सफाई के श्रेय को लेकर एलजी नाखुश