DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अवैध रूप से तैयार हो रही है आतिशबाजी

इसे पुलिस व प्रशासनिक लापरवाही मानें या मिलीभगत, लेकिन इस वक्त शहर बारूद के ढेर पर बैठा हुआ है। शहर में अवैध रूप से आतिशबाजी बनाने वालों का पूरे शहर में जाल फैल चुका है। भारी मात्र में कच्च विस्फोटक व तैयार आतिशबाजी भण्डारण हुआ पड़ा है और हजारों लोग आतिशबाजी तैयार कर रहे हैं।


वैसे तो शहर में आतिशबाजी बनाने के लिए 8 लोगों पर लाइसेंस है। ये लोग बिक्री करते हैं। परंतु दीपावली पर्व व शादियों का सीजन शुरू होने से पहले यहां सैकड़ों लोग अवैध रूप से आतिशबाजी बनाने में जुट जाते हैं। अवैध आतिशबाजी बनाने में जमकर लापरवाही बरती जाती है। यदि कहीं कोई हादसा हो जाए तो भारी जानमाल की हानि उठानी पड़ती है। सूत्रों के मुताबिक आतिशबाजी बनाने में पुरुषों से ज्यादा महिलाएं व बच्चाे लगे रहते हैं, जो विस्फोटक के साथ रहने से त्वचा व दमा आदि के रोगी हो जाते हैं। इस धंधे से जुड़े लोगों का कहना है कि हापुड़ में बनाई जा रही आतिशबाजी की सप्लाई आस-पास के शहरों व कस्बों में होती है। दीपावली के लिए बिक्री शुरू हो गई है। काफी आतिशबाजी का भंडारण हो चुका है। इन लोगों ने शहर के रिहायशी इलाके में गोदाम व आतिशबाजी बना कर रखी है। एक अवैध आतिशबाजी बनाने वाले का कहना है कि धंधा शुरू करने से पहले फायर, पुलिस से सेटिंग की जाती है ताकि कोई दिक्कत न हो। इसके लिए कुछ असरदार लोगों का सहारा भी लेना पड़ता है।

कहां-कहां बन रही आतिशबाजी-
मोती कालोनी, मजीदपुरा, पुराना बाजार, फूलगढ़ी, इंद्रगढ़ी, अली नगर, सिकंदर गेट, मोदीनगर रोड, मेरठ रोड, नवी करीम समेत करीब दो दजर्न गांवों में आतिशबाजी तैयार की जा रही है।

क्या-क्या बन रहा है
अनार, सुतली बम, लड़ी बम, राकेट, फुलझड़ी, एटम बम, चरखी, तिकोना बम आदि

पहले भी अवैध आतिशबाजी से हुए धमाके-
- वर्ष 2008 में आवास-विकास बुलंदशहर रोड पर आतिशबाजी बनाते हुए विस्फोट में एक मकान की दीवार उड़ गई, जिसमें पांच लोग जख्मी हो गए।
-वर्ष 2007 में सिकंदर गेट क्षेत्र में हुए विस्फोट में एक बच्चाी की मौत, तीन घायल।
- वर्ष 2004 में हुए विस्फोट में पांच लोगों की मौत
- वर्ष 2009 में मोती कालोनी में विस्फोट मकान गिरा सात लोग घायल हुए।

क्या कहते हैं अधिकारी-
पुलिस क्षेत्रधिकारी राजेश भारती का कहना है कि अवैध आतिशबाजी बनाने वालों के विरुद्ध जल्द ही अभियान शुरू होगा। इसके लिए सादा वर्दी में पुलिस लगाई जाएगी। उन्होंने शहरवासियों से भी क्षेत्र में बन रही आतिशबाजी व अवैध भंडारण की जानकारी देने की अपील की है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अवैध रूप से तैयार हो रही है आतिशबाजी