अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कामनवेल्थ गेम्स में सूरजकुंड की कैंपिंग साइट फ्लाप शो

कॉमनवेल्थ गेम्स अब बीती बात बनने वाले हैं। जो ‘जंगल फॉल’ कैंपिंग साइट संचालकों के दिल में कील की तरह चुभते रहेंगे। इन खेलों के चलते करोड़ों रुपये खर्च कर इस साइट को विकसित किया गया था। गेम्स खत्म होने वाले हैं। कैंपिंग साइट पर लगे टेंट हाउसों में कोई विदेशी मेहमान रहना तो दूर। यहां देसी पर्यटक भी फटकने नहीं आए। उम्मीद से परे मिले रिस्पॉन्स से कैंपिंग साइट के भविष्य पर तलवार लटकने लगी है।


दरअसल, गेम्स में विदेशी पर्यटकों जन सैलाब आने की उम्मीद को देखते हुए केंद्रीय पर्यटन मंत्रलय और हरियाणा पर्यटन निगम ने सूरजकुंड में 50 एकड़ क्षेत्र में कैंपिंग साइट बनाई थी। ‘आगमन इंडिया’ को इसके संचालन का जिम्मा सौंपा गया था। इसमें अरावली की हरियाली के बीच विदेशियों को ऐडवेंचर का रोमांच दिलाने के लिए उम्मीदों के साथ इसका विकास किया गया। इससे होने वाली कमाई भी एक महत्वपूर्ण कारण था।
इस कैंपिंग साइट को कॉमनवेल्थ से पहले जोरों शोरों के साथ शुरू किया गया। कॉमनवेल्थ का मैस्कॉट शुभंकर ‘शेरा’ भी आया। केंद्रीय पर्यटन मंत्री कुमारी शैलजा और हरियाणा के मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने उत्साह के साथ इसका फीता काटा। लेकिन, जैसे ही खेलों का उद्घाटन हुआ। उम्मीदें फीकी पड़ती गई। गेम्स से इसमें विदेशी पर्यटकों की दस्तक तो दूर, गेम्स शुरू होने पर भी किसी पर्यटक ने पैर नहीं रखा। कैंपिंग साइट का रजिस्टर जैसे रखा गया था। आज भी वैसे ही खाली पड़ा है। एक भी पर्यटक का नाम उसमें दर्ज नहीं है। इसका नतीजा ही है कि गेम्स का पर्दा गिरने से पहले ही इसके कुछ टेंट समेट दिए गए हैं।
गुरुवार को खेल का समापन होने वाला है। इसके साथ ही कैंपिंग साइट से बंधी उम्मीदें भी लगभग खत्म सी होने वाली हैं। हालांकि, तीन महीने और कैंपिंग साइट इधर रहेगी। संचालक ईयर एंडिंग पर इसके गुलजार होने की उम्मीद के साथ बैठे हैं।
--------------------------
कैंपिंग साइट फ्लॉप होने के कारण
कॉमनवेल्थ गेम्स देखने के लिए देश में विदेशी पर्यटकों का न आना कैंपिंग साइट के फ्लॉप होने की वजह बना। संचालकों की मानें तो देश में विदेशी पर्यटक आने पर इसका गुलजार होना तय था।
---------------------------------------
नहीं लग पाया फूड फैस्टीवल
विदेशी मेहमानों को भारतीय खानपान का स्वाद चखाने के लिए कैंपिंग साइट पर फूड फैस्टीवल का आयोजन होना था। जो मेहमानों के नहीं आने से धरा की धरा रह गया। इस फैस्टीवल में हरियाणा, पंजाब, राजस्थान और मध्यप्रदेश के व्यंजन परोसे जाने थे। हर सप्ताह इनमें से एक राज्य को थीम स्टेट बनाना था। ताकि फैस्टीवल में इन प्रदेशों के लोकसंगीत और नृत्य की प्रस्तुति के माध्यम से संस्कृति का प्रचार प्रसार किया जाता।
----------------------------
ऐडवेंचर साइकलिंग की योजना भी मिट्ट में मिली
कैंपिंग साइट पर आने वाले महेमानों को अरावली की पहाड़ियों में ऐडवेंचर साइकिलंग कराने की रू परेखा संचालकों ने तैयार की थी। इसके लिए रूट भी तय किया गया था। मेहमानों के न आने से यह भी योजना सिरे नहीं चढ़ पाई। इसके लिए कैंपिंग साइट संचालक ने खासतौर पर साइकिलों का प्रबंध किया था।
------------------------------
जंगल फॉल कैंपिंग साइट पर एक नजर

कैंपिंग साइट का क्षेत्र: 50 एकड़
इस बनाने में कुल खर्च: 3 करोड़ रुपये
कुल टेंट हाउस: 25
टेंटों के प्रकार: दो (सुपर लग्जरी और लग्जरी)
-------------------------------------

कैंपिंग साइट टेंटों में सुविधा

सुपर लग्जरी टेंट
- आकार होगा 30 बाई 30 फुट
- पूरी तरह एसी
- एटेच बाथरूम-टॉयलेट
- किंग साइज बैड
- नहाने को ठंडा-गर्म पानी
- टीवी और मनोरंजन के साधन
- नाइट लैंप
- फ्रिज
लग्जरी टेंट
- आकार होगा 24 बाई 24 फुट
- कूलर
- दो सिंगल बैड
- नाइट लैंप
- अटेच बाथरूम-टॉयलेट
- नहाने को ठंडा-गर्म पानी
--------------------------------------
सूरजकुंड कैंपिंग साइट
    टेंट संख्या  रेट (प्रति दिन)
सुपर लग्जरी क्लास दो   9500 रुपये
लग्जरी क्लास  22   6500 रुपये
-----------------------------------
कैंपिंग साइट चलाने वाली कंपनी आगमन इंडिया को नुकसान

कैंपिग साइट की लाइसेंसिंग फीस: 1 लाख 25 हजार रुपये प्रति माह
टेंट बुकिंग न होने से: 1,17,000 रुपये प्रति दिन (80 फीसदी बुकिंग उम्मीद पर)
----------------------------
गौतम चंदोला, प्रबंधक जंगल फॉल कैंप: उम्मीद के मुताबिक कैंपिंग साइट पर पर्यटक नहीं आए। लेकिन घबराने की बात नहीं है। कुछ कॉन्फ्रेंस होने वाली हैं। जो कुछ नुकसान पूरा कर देंगी। इस साल के अंत में अमेरिकी पर्यटकों की लगभग बुकिंग हो चुकी है। जो नुकसान से बचा लेगी।


राजेश जून, कैंपिंग साइट अधिकारी, हरियाणा पर्यटन निगम: कॉमनवेल्थ गेम्स में भलें कोई पर्यटन नहीं आया। लेकिन आने वाले महीनों में साइट का भविष्य उज्जवल है। लोग इधर रहने जरू र आएंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कामनवेल्थ गेम्स में सूरजकुंड की कैंपिंग साइट फ्लाप शो