अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुक्केबाजों ने भारत के लिए बरसाया सोना

मुक्केबाजों ने भारत के लिए बरसाया सोना

एशियाई चैम्पियन सुरंजय सिंह को बुधवार को तालकटोरा स्टेडियम में फ्लाईवेट 52 किग्रा वर्ग के फाइनल में वाकओवर से स्वर्ण प्राप्त हुआ जबकि मनोज कुमार (64 किग्रा) और परमजीत समोटा (प्लस 91 किग्रा) ने दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया और प्रतिद्वंद्वियों को चित्त करते हुए भारत की झोली में सोने के तमगे डाले। यह राष्ट्रमंडल खेलों में और मुक्केबाजी में भारत का अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है।

भारत के तीन मुक्केबाज फाइनल में पहुंचे थे और सभी ने पहला स्थान हासिल किया। मणिपुर के छोटा टायसन नाम से मशहूर सुरंजय की बाउट देखने उनके राज्य की पांच बार की विश्व चैम्पियन एमसी मैरीकाम भी पहुंची थी। सुरंजय को कीनिया के बेनसन जांगिरू को ग्रोइन चोट होने के कारण वाकओवर मिला।

भारत ने राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक का अपना रिकार्ड बना दिया है। मुक्केबाजी में भी आज का दिन रिकार्ड बनाने वाला रहा। भारत ने राष्ट्रमंडल खेलों के मुक्केबाजी मुकाबलों में अब तक 2002 (मोहम्मद अली कमर) में और 2006 (अखिल कुमार) में एक-एक स्वर्ण पदक हासिल किया था लेकिन अब उसके नाम तीन स्वर्ण और चार कांस्य पदक हो गए हैं जो मुक्केबाजों का अब तक का शानदार प्रदर्शन है।

बीते मार्च में हुई राष्ट्रमंडल चैम्पियनशिप में स्वर्ण पदक जीतने वाले सुरंजय पिछले डेढ़ साल से शानदार फार्म में हैं और यह उनका सातवां स्वर्ण पदक है। उन्होंने अंतिम चार में पाकिस्तान के हारून इकबाल को 9-3 से चारों खाने चित्त कर फाइनल में प्रवेश किया था। इकबाल ब्रिटेन के मशहूर पेशेवर मुक्केबाज आमिर खान के छोटे भाई हैं।

चोट के कारण दो साल बाद वापसी करने वाले मनोज और पहलवान से मुक्केबाज बने परमजीत ने आज खचाखच भरे तालकटोरा स्टेडियम में मौजूद दर्शकों का मन मोह लिया। मनोज ने लाइट वेल्टरवेट में इंग्लैंड के ब्रैडले सौंडर्स को 11-2 से शिकस्त दी, जो इस भारतीय से काफी मजबूत प्रतिद्वंद्वी था।

परमजीत समोटा ने सुपर हेवीवेट में त्रिनिदाद के तारिक अब्दुल हक को 5-1 से मात देकर सभी को हैरत में डाल दिया क्योंकि भारत कभी भी हेवीवेट में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाया है जो इस खेल की लोकप्रियता के लिए काफी फायदेमंद है।

बीजिंग ओलंपिक कांस्य पदकधारी और दुनिया के नंबर वन विजेंदर सिंह (75 किग्रा) को सेमीफाइनल में पेनाल्टी के कारण इंग्लैंड के एंथोनी ओगोगो से उलटफेर का सामना कर कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा जबकि विपक्षी मुक्केबाज ने फाइनल में नार्दन आयरलैंड के इमोन ओकाने से 4-11 से हारकर रजत पदक प्राप्त किया।

मनोज कुमार ने सेमीफाइनल में बाहरीन के वालेंटिनो नोल्स को 3-1 से जबकि राष्ट्रमंडल चैम्पियनशिप के स्वर्ण पदकधारी परमजीत समोटा (प्लस 91 किग्रा) ने टोंगा के जूनियर एफए को 6-2 से परास्त कर फाइनल में प्रवेश किया था।

विजेंदर के अलावा राष्ट्रमंडल चैम्पियनशिप के स्वर्ण पदकधारी अमनदीप सिंह (49 किग्रा), एशियाई रजत पदकधारी जय भगवान (60 किग्रा) और नौ बार के राष्ट्रीय चैम्पियन दिलबाग सिंह (69 किग्रा) को अपनी सेमीफाइनल बाउट में हारने से कांस्य पदक मिले।

अमनदीप को ओलंपिक कांस्य पदकधारी और यूरोपीय चैम्पियन आयरलैंड के पैडी बार्नेस से 0-5, जय भगवान को यूरोपीय चैम्पियनशिप रजत पदकधारी इंग्लैंड के थामस स्टालकर से 5-10 और दिलबाग को नार्दन आयरलैंड के पैट्रिक गालाघर से रोमांचक बाउट में 4-5 से हार का मुंह देखना पड़ा था।

लाइट फ्लाईवेट 49 किग्रा का स्वर्ण नादर्न आयरलैंड के पैडी बार्नेस के नाम रहा जिन्होंने नामीबिया के जाफेट उटोनी को परास्त किया। बैंथमवेट 56 किग्रा में श्रीलंका के मंजू वानियाराच्ची ने वेल्स के सीन मैगोल्ड्रिक को हराकर देश को इन खेलों में पहला स्वर्ण पदक दिलाया।

इंग्लैंड के थामस स्टालकर ने लाइटवेट 60 किग्रा में स्काटलैंड के जोश टेलर को 11-3 से जबकि वेल्टरवेट 69 किग्रा में नादर्न आयरलैंड के पैट्रिक गालाघर ने इंग्लैंड के कैलम स्मिथ को 11-6 से मात देकर सोने का तमगा हासिल किया। स्काटलैंड के कैलम जानसन ने नार्दन आयरलैंड के थामस मैकार्थी को 8-1 रौंद कर पहला स्थान हासिल किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुक्केबाजों ने भारत के लिए बरसाया सोना