DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पंचायत चुनाव: हिंसा पर चुनाव आयोग सख्त

राज्य निर्वाचन आयोग ने उत्तर प्रदेश में हो रहे त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में गत 10 अक्टूबर को पहले चरण के मतदान के दौरान बड़े पैमाने पर हुई हिंसा को गंभीरता से लेते हुए सभी जिलास्तरीय अधिकारियों को 14 अक्टूबर को होने वाले दूसरे चरण के मतदान के दौरान ऐसी वारदात को रोकने के निर्देश दिये हैं।

राज्य निर्वाचन आयोग ने सभी जिलाधिकारियों तथा जिला पुलिस प्रमुखों को जारी पत्र में कहा कि आयोग के संज्ञान में आया है कि मतदान के दौरान कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने के लिये उसकी ओर से दिये गए निर्देशों का सख्ती से पालन नहीं किया गया नतीजतन कुछ जिलों में मतदान के दौरान हिंसक वारदात हुईं।

आयोग ने कहा कि पहले चरण के मतदान के दौरान हुई हिंसा के मद्देनजर अब निर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित कराया जाए। आयोग ने अधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि वे यह सुनिश्चित करें कि मतदान की अवधि के दौरान कोई भी व्यक्ति अपनी लाइसेंसी बंदूक भी लेकर न निकल सके। निर्वाचन आयोग ने मतदान के दौरान बगैर अनुमति प्राप्त वाहनों की आवाजाही पर भी पाबंदी लगा दी है।

आयोग ने अधिकारियों को जारी पत्र में कहा कि जिन लोगों के पास जिलाधिकारी द्वारा जारी पास न हो उन्हें अपना वाहन लेकर सड़क पर निकलने की अनुमति न दी जाए। इस बीच, प्रदेश के निर्वाचन आयुक्त राजेन्द्र भौनवाल ने पंचायत चुनाव के पहले चरण के दौरान हुई हिंसा को लेकर गृह विभाग के प्रमुख सचिव तथा पुलिस महानिदेशक से रिपोर्ट मांगी है। आयोग ने आगाह किया है कि दूसरे चरण के मतदान के दौरान कहीं हिंसा होने पर संबधिंत अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पंचायत चुनाव: हिंसा पर चुनाव आयोग सख्त