DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टारजन स्विंग: मोगली की तरह झूलने का खेल

टारजन स्विंग:  मोगली की तरह झूलने का खेल

आज हम तुम्हें ऐसे एडवेंचर स्पोर्ट के विषय में बताते हैं, जिसकी शुरुआत जंगलों में हुई थी। इसे ‘टारजन स्विंग’ कहते हैं। टारजन के बारे में तो तुमने जरूर सुना होगा। शायद कभी उसके कॉमिक भी पढ़े होंगे। जैसे मोगली जंगलों में रहने वाला एक बच्चा था, उसी प्रकार टारजन भी जंगलों में रहने वाला इंसान था, जो खतरनाक जंगली जानवरों से बचने के लिए पेड़ों की लटकती टहनियों को पकड़ कर झूलता हुआ एक पेड़ से दूसरे पेड़ तक पहुंच जाता था। जानते हो टारजन की यह गतिविधि साहसिक लोगों को पसंद आई। जब उन्हें किसी प्राकृतिक बाधा को पार करना होता था तो वह ऊंचाई में रस्से बांध कर उन पर लटक कर झूलते हुए बाधा पार कर जाते थे। धीरे-धीरे यह एक एडवेंचर स्पोर्ट बन गया और इसे ‘टारजन स्विंग’ कहा जाने लगा। कहते हैं इसकी शुरुआत कोस्टारीका के जंगलों में हुई थी।

तुम भी ‘टारजन स्विंग’ का रोमांच ले सकते हो। इसके लिए भी किसी प्रकार का प्रशिक्षण नहीं, बस साहस की आवश्यकता होती है। मौजमस्ती के लिए की जाने वाली इस गतिविधि के लिए जम्पिंग और लैंडिंग प्लेटफॉर्म बने होते हैं। जम्पिंग प्लेटफॉर्म 15-20 फुट की ऊंचाई पर हो सकता है। यह किसी पेड़ या पोल पर बनाये गये मचान के समान भी हो सकता है। वहां से एक लम्बा तार या रस्सा लैंडिंग प्लेटफॉर्म तक लगा होता है। उस रस्से में लगे एक स्विंग में हारनेस की सहायता से लटक कर जम्प लगा कर दूसरे छोर पर ग्राउंड पर बने प्लेटफॉर्म पर उतरना होता है। सोचो जरा, हवा में रस्सी के सहारे झूलते हुए एक छोर से दूसरे छोर पर पहुंचना कितना रोमांचक लगेगा। इन दोनों छोर के मध्य बाधा के रूप में रेत के बोरे आदि पड़े हो सकते हैं। कुछ स्थानों पर इस खेल को अधिक मनोरंजक बनाने के लिए बनयन ट्री की लटकती शाखाओं के समान रस्से लगाये जाते हैं। साहसी व्यक्ति इनमें बने हैंडल को पकड़ कर बिना हारनेस की सहायता के लहराता हुआ दूसरे स्थान पर कूदता है। दूसरे छोर पर ‘टच डाउन एरिया’ में गद्दीदार प्लेटफॉर्म बनाये जाते हैं, ताकि लैंड करते समय किसी प्रकार की दुर्घटना न हो। इसके अलावा सुरक्षा की दृष्टि से हैलमेट भी पहना जाता है। विदेशों में तो इस गेम को कुछ और रोमांचक बनाया जाता है, लेकिन घबराना नहीं ऐसे खेलों के आयोजन में सुरक्षा का पूरा ध्यान रखा जाता है।

एक बात तुम्हें जरूर बताना चाहेंगे, साहसी खेलों की शुरुआत के लिए यह एक अच्छा एडवेंचर गेम है। ‘स्विंग एंड एक्शन’ के इस गेम में तुम्हारे बाजुओं में ताकत का परिक्षण भी हो जाता है, क्योंकि स्विंग करते हुए पूरे शरीर का वजन बाजुओं पर ही होता है। एक बार ‘टारजन स्विंग’ करने के बाद इसे बार-बार करने का दिल होता है। वैसे भी अभ्यास के बाद इसे करने में अधिक आनंद आता है। ऐसी गतिविधि की आवश्यकता आगे चल कर ट्रैकिंग या फॉरेस्ट वॉकिंग के दौरान जंगल या पहाड़ों में किसी खाई या गड्ढे आदि को पार करने में होती है। देखा है न मजेदार गेम।

एडवेंचर गेम

सावधानी

मम्मी पापा की अनुमति लेकर किसी अनुभवी व्यक्ति के मार्गदर्शन में ही ‘टारजन स्विंग’ करें।
टारजन स्विंग करते समय हैलमेंट अवश्य पहनें।
अपने हारनेस को रस्से में ध्यान से लगायें।
केवल ‘टच डाउन एरिया’ में ही उतरें।
वैसे तो 6 वर्ष से 70 वर्ष के व्यक्ति इस खेल का आनंद ले सकते हैं, लेकिन ध्यान रहे केवल शारीरिक रूप से फिट व्यक्ति को ‘टारजन स्विंग’ करनी चाहिए।

कहां हैं इसके अवसर

हरियाणा में दमदमा में वॉटरबैंक आइलैंड रिजॉर्ट में
हिमाचल प्रदेश के सांगला के कैम्प वंडरलैंड में
ऋषिकेश के रिवर कैम्प में।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:टारजन स्विंग: मोगली की तरह झूलने का खेल