अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

त्योहारों में ट्रेनों की मारामारी शुरु

 त्योहारों के सीजन में ट्रेनों में मारामारी श़ुरू हो गई है। लंबी दूरी की सभी ट्रेनें दीपावली-छठ तक के लिए नो रूम हैं। वेटिंग टिकट की फेहरिस्त अभी से लंबी चल रही है, खासकर बिहार, बंगाल व पूवरेत्तर राज्यों को जाने वाली ट्रेनों में वेटिंग भी ढाई-तीन सौ के पार पहुंच गई है। ऐसे में अब तत्काल सेवा के अलावा कोई  विकल्प नहीं है। दो दिन पहले मिलने वाली तत्काल सेवा के टिकट के लिए लोग सुबह से ही अपनी नींद खराब कर आरक्षण केन्द्र पर लाइन में लग रहे हैं लेकिन तब भी कन्फर्म टिकट को लेकर निराशा हाथ लग रही है।


दीपावली व छठ यानी 12 नंबवर तक के लिए किसी भी श्रेणी में सामान्य आरक्षण खाली नहीं है। नियमत: तीन महीने पहले से बुकिंग कराने की व्यवस्था होने के कारण लंबी दूरी की किसी साधारण मेल व एक्सप्रेस ट्रेनों में कोई बर्थ उपलब्ध नहीं है। दुर्गापूजा के लिए फिलहाल बंगाल,उड़ीसा की ट्रेनों में जबदस्त भीड़ चल रही है। विजय दशमी के बाद से बिहार व पूरब की सभी ट्रेनों में रेलमपेल जैसी स्थिति होने की संभावना है।

लंबी दूरी की ये हैं प्रमुख गाड़ियां
गाजियाबाद से होकर पूरब की ओर जाने वाली ट्रेनों में वैशाली सुपरफास्ट,कालका मेल, सीमांचल सुपरफास्ट, श्रमजीवी, महानंदा, लिच्छवी, पुरबिया, लालकिला, शहीद, फरक्का, सरयू यमुना, अवध आसाम, सत्याग्रह एवं सद्भावना एक्सप्रेस प्रमुख ट्रेनें है जो कि गाजियाबाद स्टेशन से रूककर जाती है। इन सभी ट्रेनों की किसी भी श्रेणी में 11 नवंबर तक कोई बर्थ खाली नहीं है। यहां तक कि लेटलतीफी के लिए मशहूर लिच्छवी, महानंदा, लालकिला,जनता व फरक्का तक में वेटिंग की लंबी फेहरिस्त चल रही है। 
 
तत्काल सेवा ही विकल्प
दीपावली हो या छठ, त्योहार मनाने के लिए बिहार या बंगाल की ओर जाने वाले लोगों की परेशानी फिलहाल कम होने वाली नहीं है। इस मौके पर गाजियाबाद-नोएडा व मोदीनगर से कई लाख लोग त्योहार मनाने पूरब में अपने घर जाते हैं। ऐसे में उनके पास तत्काल सेवा में टिक ट लेना ही विकल्प रह गया है। यात्रा से ठीक दो दिन पहले मिलने वाले तत्काल टिक ट के लिए अभी से लाइनें लंबी होने लगी हैं। सुबह आठ बजे काउंटर खुलता है लेकिन लोग सुबह छह बजे से लाइनें लग जाती हैं। तत्काल सेवा में सीमित सीट होने के कारण यह भी महज 5-7 मिनट में ही फु ल हो जाता है।
इंतजार करें स्पेशल ट्रेनों का
दीपावली व छठ त्यौहार मनाने बिहार व बंगाल की ओर जाने वाले पूजा व छठ स्पेशल ट्रेनों का इंतजार करें। रेल मंत्रलय द्वारा हर साल की भांंति इस वर्ष भी कुछ दिनों में पूजा स्पेशल ट्रेनों के परिचालन की घोषणा की जाएगी। स्पेशल ट्रेनों के चलने से कुछ राहत मिल सकती है। उनमें आरक्षण आसानी से मिल सकता है। यात्राियों की भीड़ के मद्देनजर इस बार स्पेशल ट्रेनों की संख्या गत वर्ष के मुकाबले ज्यादा होने की उम्मीद है।

क्या करें
मूलत: बक्सर के रहने वालैे राकेश राय का कहना है कि वे यात्रा तोड़कर दो चरणों में करेंगे। टुकड़ों में यात्रा करने में वक्त तो ज्यादा लगेगा लेकिन दूसरा कोई विकल्प भी नही है ,वहीं संजयनगर में रहने वाले मणिभूषण को समस्तीपुर तक की सफर करनी है छठ में पहुंचना जरूरी है सो वैशाली से तत्काल कोटा या फिर किसी वीआईपी से टिकट कन्फर्म कराने का प्रयास करेंगे। विवेकानंद नगर में रहने वाले धनश्याम मेहता को बरौनी जाना है,उन्हें मेला स्पेशल ट्रेन का इंतजार है क्योंकि बस से इतना लंबा सफर मुश्किल है। मंगलवार को ऐसे कई लोग आरक्षण काउंटर पर मिले जो कि आरक्षण कराने को लेकर परेशान थे। कुछ लोग बनारस,गोरखपुर व बलिया जाने वाले थे जो दीपावली के बाद लग्जरी बसों द्वारा ही घर का सफर तय करेंगे। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:त्योहारों में ट्रेनों की मारामारी शुरु