अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

व्रत-त्योहार (13 अक्टूबर, 2010)

शारदीय दुर्गा पूजारम्भ। मूल नक्षत्र में सरस्वती देवी का आवाह्न (मूल नक्षत्र रात्रि 11 बजकर 43 मिनट तक) महासप्तमी। औली प्रारम्भ (जैन)। सूर्य दक्षिणायन। सूर्य दक्षिण गोल। शरद ऋतु। मध्याह्न 12 बजे से 1 बजकर 30 मिनट तक राहु कालम्।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:व्रत-त्योहार (13 अक्टूबर, 2010)