DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दर्द होता रहा, वो काम करते रहे

दर्द होता रहा, वो काम करते रहे

सितारों द्वारा बिना किसी बात के शूटिंग रोक देना अब बीते दिनों की बात हो गई है। पिछले दिनों कई सितारे अपनी चोट की चिंता किए बिना फिल्म की शूटिंग पूरी करते नजर आए।

एक जमाने में फिल्मी कलाकारों की लेट-लतीफी और गैर पेशेवर होने की खबरें सुनने के लिए मिलती थीं। पर अब वो दौर बीत गया। अब, अपनी परेशानी और चोट की फिक्र किए बिना कई कलाकार फिल्म के शडय़ूल की चिंता करते हैं। हाल में बॉलीवुड के कई कलाकारों ने प्रोफेशनल होने का अनोखा नमूना पेश किया है।

संजय लीला भंसाली की नई फिल्म के एक गाने जाने किसके ख्वाब.. की शूटिंग के दौरान ऋतिक रोशन ने बिल्कुल परफेक्ट शॉट दिया, बावजूद इसके कि वो अपने घुटने को आसानी से मोड़ भी नहीं पा रहे थे। कॉरियोग्राफर ऐश्ले लोबो के मुताबिक, ‘जब हमने रिहर्सल शुरू की थी तो ऋतिक की हालत को देख कर ऐसा लग नहीं रहा था कि हम गाने की शूटिंग कर पाएंगे, पर ऋतिक बहुत हिम्मत वाले कलाकार हैं। घुटने में इतनी परेशानी होने के बावजूद एक शॉट में उन्हें देख कर ऐसा लगता है, मानो वे उड़ रहे हों।’

बॉलीवुड में ऋतिक ही एकमात्र ऐसे कलाकार नहीं हैं, जो ‘नो पेन, नो गेन’ के इस सिद्धांत में विश्वास रखते हैं। फिल्म निर्माताओं का कहना है कि बॉलीवुड में कई ऐसे कलाकार हैं, जो ऋतिक जितने ही प्रोफेशनल हैं। फिल्म निर्माता अनीस बज्मी के अनुसार, ‘फिल्म निर्माण का खर्च काफी ज्यादा होता है और सभी कलाकारों की डेट्स एक साथ मिल पाना भी आसान बात नहीं है। शडय़ूल में तीन-चार दिनों की देरी भी प्रोडय़ूसर को करोड़ों का नुकसान देने के लिए काफी है। एक्टर भी इस बात को अच्छी तरह से समझते हैं और यही वजह है कि बीमार या चोटिल होने के बाद भी वे शूटिंग कैंसिल करने की बात नहीं करते। पर एक्टर्स को भी अपने ऊपर बहुत ज्यादा दबाव नहीं डालना चाहिए, इसका असर उनके आने वाले प्रोजेक्ट्स पर भी पड़ सकता है।’ वहीं हाल ही में फिल्म ‘हाउसफुल’ बनाने वाले निर्देशक साजिद खान का कहना है कि ये एक्टर इस बात को दर्शाते हैं कि काम नहीं रुकना चाहिए। चोटिल होने के बावजूद ये लोग शूटिंग को प्रभावित नहीं होने देते। पर इस तरह की बात प्रत्येक व्यक्ति पर और इस बात पर भी निर्भर करती है कि चोट कितनी गंभीर है। वहीं फिल्ममेकर अनुराग कश्यप का कहना है कि हर फिल्म निर्माता और निर्देशक इतना भाग्यशाली नहीं होता। अनुराग कहते हैं, ‘प्रत्येक फिल्म निर्माता पर फिल्म की शूटिंग के दौरान काफी ज्यादा दबाव होता है। किसी कलाकार का नाम लिए बिना मैं यह कह सकता हूं कि कई स्टार ऐसे होते हैं, जो चोटिल होने के बाद काफी नखरेबाजी करते हैं। कई बार इस बात का असर प्रोडक्शन कॉस्ट पर भी पड़ता है। वहीं कुछ कलाकार चोट लगने के बाद और ज्यादा काम करते हैं, ताकि वे अन्य लोगों के सामने अपनी बात और अपनी क्षमता बेहतर तरीके से सिद्ध कर सकें।’

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दर्द होता रहा, वो काम करते रहे