DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

साझा सरकार के सामने कई चुनौतियां: अजरुन मुंडा

मुख्यमंत्री अजरुन मुंडा ने कहा कि कार्यकर्ता से संगठन बनता है। संगठन ही जनता के बीच संदेश पहुंचाता है और वह जनप्रतिनिधि चुनते हैं, फिर संख्या के आधार पर सरकार बनती है। साझा सरकार के सामने कई चुनौतियां है। सरकार ने जनहित में कदम उठाना शुरू कर दिया है, कार्यकर्ताओं को ध्यान रखना होगा कि फायदा लोगों तक पहुंच रहा है या नहीं। कार्यकर्ताओं को सरकार के कामकाज को जनता के बीच लेकर जाना होगा। आज हम साझा हैं, कल बहुमत की सरकार होगी। मुख्यमंत्री भाजपा कार्यालय में नए प्रदेश अध्यक्ष दिनेशानंद गोस्वामी के स्वागत समारोह में बोल रहे थे।
कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए गोस्वामी ने कहा कि हमारी पहचान संगठन की वजह से है। संगठन की मजबूती सभी कार्यकर्ताओं को ऊर्जान्वित करती है। उन्होंने कहा कि 81 विधानसभा सीटों में से 58 पर कभी न कभी भाजपा प्रत्याशी विजयी रहे हैं। गठबंधन की सरकार भले ही हो, लेकिन बनाया भाजपा ने है, लिहाजा कार्यकर्ताओं की जिम्मेदारी है कि लोगों का विश्वास जीतें। गोस्वामी ने मधु कोडा सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि इस सरकार को बनाने में सहयोग करने वाले कांग्रेस नेताओं की भी सीबीआई जांच होनी चाहिए।
 निर्वतमान प्रदेश अध्यक्ष रघुवर दास, सांसद पशुपतिनाथ, पूर्व विधायक सरजू राय व कई अन्य नेताओं ने अपने विचार रखे। दास ने कहा कि सरकार आती है और चली जाती है, लेकिन संगठन बना रहता है। सत्ता भोग की वस्तु नहीं है। जनता के हित में कदम उठाना चाहिए। राजनीतिक मूल्यों का जो ह्रास हुआ है उसे दूर करना होगा। सरकार और संगठन अपना-अपना काम करे। दोनों के समन्वय से जनता के दिलों को जीता जा सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:साझा सरकार के सामने कई चुनौतियां: अजरुन मुंडा