DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कोर कमेटी से इस्तीफे की बात से मुकरे चौबे

 पीएचीडी मंत्री अश्विनी चौबे के रुख में नरमी दिखी। उन्होंने यह माना कि कोर कमेटी में कुछ बिन्दुओं पर संवादहीनता की स्थिति पैदा हो गई थी। ऐसा नहीं होना चाहिए था। पार्टी में दल-बदलुओं को तरजीह दिए जाने के वह खिलाफ हैं। लेकिन कोर कमेटी से अपने इस्तीफे की बात से मुकरते हुए उन्होंने कहा कि राज्य में दुबारा एनडीए की सरकार बनेगी। सरकार ने बेहतरीन काम किया है। पार्टी के अंदर भी सबकुछ सामान्य हो जाएगा।
नाराज प्रदेश अध्यक्ष डा.सी.पी.ठाकुर से मिलने के बाद शुक्रवार को चौबे ने कोर कमेटी से इस्तीफा देने की घोषणा की थी। हालांकि शनिवार को उन्होंने इससे किनारा कर लिया। आनन-फानन में भाजपा प्रदेश कार्यालय में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में उन्होंने पार्टी के किसी नेता पर खुलकर निशाना नहीं साधा। उन्होंने इतना जरूर कहा कि संवादहीनता की स्थिति बन गई थी। कोर कमेटी के सभी सदस्य कुछ बातों से पूरी तरह आश्वस्त नहीं थे। घर-परिवार में भी मतभेद हो जाता है। इसे ठीक कर लिया जाएगा। सब मिलकर काम करेंगे। पार्टी में लोकतांत्रिक व्यवस्था बरकरार रहेगी। किसी को अपने मनमर्जी की इजाजत नहीं होगी। उन्होंने यह कहा कि कुछ दल-बदुलओं को टिकट दिए गए है। इस पर वह केन्द्रीय नेतृत्व से बात करेंगे। लोजपा प्रमुख रामविलास पासवान पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि बिहार की जनता ऐसे लोगों का सफाया कर देगी।
दूसरी ओर प्रेस कांफ्रेंस के कुछ देर बाद ही प्रदेश कार्यालय में वजीरगंज के कार्यकर्ताओं ने प्रत्याशी बदलने की मांग लेकर जमकर नारेबाजी की। पुलिस की मौजूदगी में सभी मुख्य द्वार पर धरने पर बैठ गए। कार्यकर्ताओं ने सुशील मोदी विरोधी खूब नारे लगाए। ये लोग वजीरगंज से प्रत्याशी बदलने की मांग कर रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कोर कमेटी से इस्तीफे की बात से मुकरे चौबे