DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नए सिरे से संभावना तलाशने में जुटे न्यायमूर्ति बसु

रामजन्मभूमि बनाम बाबरी मस्जिद विवाद के सन्दर्भ में इलाहाबाद हाईकोर्ट के लखनऊ खण्डपीठ की ओर से फैसला आने के बाद अब अवकाश प्राप्त न्यायाधीश न्यायमूर्ति पालोक बसु ने मसले के हल के लिए नए सिरे से संभावना तलाशना शुरू कर दिया है। इसी सिलसिले में शनिवार को यहाँ पहुँचे न्यायमूर्ति श्री बसु हनुमानगढ़ी में हनुमन्त लला के सामने माथा टेका। इसके बाद सीधे रामजन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपालदास से भेंट करने मणिरामदास छावनी स्थित उनके आश्रम पर पहुँचे जहाँ उनकी एकान्त में लगभग आधे घंटे तक मंत्रणा हुई। श्री बसु अखाड़ा परिषद अध्यक्ष महंत ज्ञानदास व बाबरी मस्जिद के मुद्दई मो. हाशिम अंसारी से भी भेंट करना चाहते हैं लेकिन उनसे भेंट नहीं हुई।
बताते चलें कि इलाहाबाद हाईकोर्ट के लखनऊ खण्डपीठ के अवकाश प्राप्त न्यायाधीश श्री बसु हाईकोर्ट का फैसला आने से कई माह पूर्व से ही मंदिर-मस्जिद मसले का समझौते के जरिए समाधान निकालने के लिए प्रयासरत रहे लेकिन बीच में पक्षकारों के बीच कोई सर्वमान्य फामरूला तय न हो पाने के कारण उन्होंने अपने पाँव पीछे खींच लिए थे। अब जब हाईकोर्ट का फैसला आ चुका है और विवादित परिसर के बँटवारे की बात सामने आई है तो एक बार फिर न्यायमूर्ति श्री बसु नए सिरे से समझौते की संभावना तलाशने में जुटे हैं। इसी लिहाज से शनिवार को न्यायमूर्ति बसु ने रामजन्मभूमि न्यास अध्यक्ष के अलावा अयोध्या विवाद के प्रमुख पक्षकार निर्मोही अखाड़ा के अधिवक्ता रणजीत लाल वर्मा से उनके आवास पर जाकर मुलाकात की। इसके अलावा श्री बसु ने अयोध्या वेलफेयर सोसायटी के सदर सादिक अली उर्फ बाबू खाँ से भी मिले। बताया जाता है कि न्यायमूर्ति श्री बसु ने रविवार को सरकिट हाउस में अयोध्या विवाद के सम्बन्धित पक्षकारों की बैठक भी बुलाई है। हालाँकि न्यायमूर्ति श्री बसु ने इसकी पुष्टि नहीं की। उन्होंने ‘हिन्दुस्तान’ से दूरभाष पर बातचीत में कहा कि अभी बैठक तय नहीं हो सकी है। उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं कि विवाद का निपटारा अयोध्या वासी आपस में मिल बैठ कर करें। उन्होंने बताया कि इसी के चलते सम्बन्धित पक्षकारों से मुलाकात कर उन्हें समझाने का प्रयास कर रहा हूँ। उन्होंने यह भी कहा कि उनका यह प्रयास सामान्य नागरिक के हैसियत से है। यदि यह सफल हो तो सभी के हित में होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नए सिरे से संभावना तलाशने में जुटे न्यायमूर्ति बसु