DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पलामू और रामगढ़ से तीन उग्रवादी पकड़े गए

पलामू और रामगढ़ जिले से शनिवार को तीन उग्रवादी पकड़े गए। इनमें एक जेपीसी का हार्डकोर है तो दो अन्य एमसीसी से कभी जुड़े रहे एक उग्रवादी के दाहिने हाथ। दोनों जिलों के पुलिस कप्तान इसे अपनी बड़ी उपलब्धि मान रहे हैं। इनकी गिरफ्तारी से हत्या और अपहरण के कई मामलों का खुलासा  होने की उम्मीद है।


मेदिनीनगर प्रतिनिधि के मुताबिक सतबरवा पुलिस ने झारखंड प्रस्तुति कमेटी (जेपीसी) के सबजोनल कमांडर भोला उरांव उर्फ भगत जी को कोइलपारा से गिरफ्तार किया है। उसके पास से एक पिस्टल, 12 थ्री फिफ्टीन का कारतूस, इंसास-एसएलआर राइफल का एक-एक कारतूस और दो मोबाइल मिले हैं। शनिवार को एसपी अनूप टी मैथ्यू ने पत्रकारों को बताया कि भोला उरांव ने 21 मई 2009 को अपने रिश्तेदार जयश्री उरांव और रामकेश उरांव की हत्या के साथ उग्रवाद के क्षेत्र में कदम रखा था। दोनों का शव पलामू किले के पास नदी में दफना दिया था। बाद में पुलिस ने शव को निकाला था। बकौल एसपी भोला ने सतबरवा में अपहरण का उद्योग कायम कर रखा था।
उधर, रामगढ़ से मिली सूचना के अनुसार नक्सली संगठन एमसीसी के पूर्व सक्रिय सदस्य बाजीराम महतो गिरोह के दो सदस्यों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। धराए लोगों में प्रेम कुमार रजवार और अशोक कुमार महतो शामिल है। इन्हें शुक्रवार देर रात को पकड़ा गया। इनके पास से 13 हजार रुपए नगद बरामद किए गए हैं।  एसपी के मुताबिक बाजीराम महतो ने एमसीसी से अलग होकर लईयो क्षेत्र में अपना एक गिरोह तैयार कर लिया था। इसके गिरोह में कई पूर्व उग्रवादी भी शामिल हैं। अपहरण की कई घटनाओं को इसने अंजाम दिया है। शनिवार को रामगढ़ एसपी मृत्युंजय कुमार ने बताया कि इसी गिरोह ने तीन सितंबर को लईयो से सीपीआइ नेता बालेश्वर महतो का अपहरण किया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पलामू और रामगढ़ से तीन उग्रवादी पकड़े गए