DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लक्ष्मण के साथ अन्याय

भारत ने मोहाली में खेले गए पहले क्रिकेट टेस्ट मैच में वी.वी.एस. लक्ष्मण के ऐतिहासिक प्रदर्शन के दम पर कंगारूओं के जबड़े से जीत छीन ली। एक समय टीम इंडिया के आठ विकेट 124 रन पर गिर गए थे। सामने हार का खतरा मंडरा रहा था, पर लक्ष्मण ने पीठ दर्द और कंगारूओं की सधी हुई गेंदबाजी पर काबू पाते हुए अदम्य साहस के साथ 79 गेंदों पर 73 रन बनाए तथा ईशांत के साथ मिलकर भारतीय टीम को विजय के द्वार पर पहुंचाया। फिर ओझा के साथ अंतिम विजय तक मैदान में डटे रहे। इस मैच के ‘मैन ऑफ द मैच’ का पुरस्कार लक्ष्मण को ही मिलना चाहिए था, पर यह जहीर खान को दिया गया तो सभी क्रिकेट प्रेमी आश्चर्यचकित रह गए। यह लक्ष्मण के साथ अन्याय है, लेकिन इस शानदार प्रदर्शन के लिए क्रिकेटप्रेमी उन्हें दिल से बधाई देना चाहते हैं।
आसिफ अली, सी-12, गुरु रामदास नगर, लक्ष्मी नगर, दिल्ली

सेना ही सही
कॉमनवेल्थ गेम्स की शुरुआत से ठीक पहले नेहरू स्टेडियम के पास फुट-ओवर ब्रिज का गिरना बड़ी धनराशि के नुकसान के साथ-साथ राष्ट्रीय सम्मान पर भी सवाल खड़े कर रहा था। इसकी भरपाई कैसे होगी, यह चिंता सबको मथ रही थी। बाद में इसी फुट-ओवर ब्रिज को हमारी सेना ने तुरंत तैयार कर डाला। इससे जाहिर हो गया कि हमारी सेना कितनी सक्षम है। अत: भावी मास्टर प्लान के साथ-साथ सीपीडब्ल्यूडी, डीडीए और एमसीडी के सारे काम सेना को ही सौंपने की सख्त जरूरत है, क्योंकि सेना राष्ट्र के प्रति ईमानदार व समर्पित है।
वेद मामूरपुर, नरेला, दिल्ली

हाइड ऐक्ट का खुलासा कब?
वर्ष 2008 में अमेरिका के तत्कालीन विदेश उप-मंत्री निकोलस बर्न्स ने एक विज्ञप्ति में कहा था कि असैनिक परमाणु करार और 123 एग्रीमेंट पूरी तरह से हाइड ऐक्ट के अनुकूल और इसके दायरे में है। इस हाइड ऐक्ट के मुताबिक, यदि भारत भविष्य में कोई परमाणु परीक्षण करता है, तो वह अमेरिका के साथ हर तरह का परमाणु सहयोग समाप्त कर लेगा। हमारी सरकार ने देश की जनता के सामने अब तक इस करार से संबंधित अमेरिकी शर्तो को उजागर नहीं किया है। अमेरिका में सत्ता परिवर्तन हो चुका है, लेकिन अभी तक परमाणु समझौते से संबंधित सभी बातें सामने नहीं आ पाई हैं। आखिर कब तक उनका खुलासा किया जाएगा। अब कोई इस बारे में सवाल ही नहीं पूछता?
विनय सरीन, 660, संजय गांधी कॉलोनी, लुधियाना, पंजाब

अयोध्या मामले में फैसला
अयोध्या मामले पर आपका संपादकीय ‘फैसले के बाद’ पढ़ा। अच्छा लगा। आखिर एक लंबा विवादास्पद मामला अपने अंत की ओर अग्रसर तो हुआ। बाबरी मस्जिद के ध्वंस के बाद संबंधित पक्षों के बीच दोनों तरफ के धार्मिक कट्टरपंथियों और सत्तालोभी राजनेताओं ने नफरत के बीज बो दिए थे। इसीलिए 30 सितंबर को पूरे देश व सरकार की सांसें रुकी पड़ी थीं। एक अनजाना-सा डर तथा दहशत का माहौल देश भर में छाया हुआ था। पता नहीं क्या होगा? लेकिन भारत की जनता ने बता दिया कि नहीं, भारत अब 1992 से बहुत आगे निकल आया है। क्या हिंदू और क्या मुसलमान, सभी ने जिस सदाशयता का परिचय दिया तथा जिस प्रकार इस देश में अमन-चैन का माहौल बनाकर रखा, वह आज दुनिया के सामने एक मिसाल है। हमें भविष्य में भी ऐसे ही आचरण का संकल्प लेना चाहिए।
इंद्र सिंह धिगान, रेडियो कॉलोनी, किंग्जवे कैम्प, दिल्ली

एक सराहनीय पहल
दिल्ली ऑटो रिक्शा संघ ने सभी ऑटो चालकों से अपील की है कि वे कॉमनवेल्थ खेलों के दौरान विदेशी मेहमानों के साथ अच्छा व्यवहार करें, ऑटो साफ-सुथरा रखें, वर्दी पहनकर ऑटो चलाएं तथा पर्यटकों से मीटर के हिसाब से ही किराया लें। ऑटो रिक्शा संघ के पदाधिकारियों की यह अपील उनकी देशभक्ति उजागर करती है। इसी तरह दिल्ली के टैक्सी-ट्रांसपोर्ट यूनियनों को भी देशभक्ति का परिचय देते हुए सराहनीय पहल करनी चाहिए और सैलानियों का दिल जीतना चाहिए।
राजेंद्र कुमार सिंह, एच-101, आर्य अपार्टमेंट, से.-15, रोहिणी, दिल्ली

पड़ोस में घमासान
देश के वायुसेना प्रमुख वी.पी. नाइक ने ठीक ही कहा है कि पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान की स्थितियां अत्यंत विस्फोटक हैं और वहां कभी भी कुछ भी हो सकता है। कुछ दिनों पूर्व परवेज मुशर्रफ ने भी जनरल कियानी की मंशा पर सवाल खड़े करते हुए तख्ता पलट की आशंका जताई ही थी। इसलिए हमारे देश को सतर्क हो जाना चाहिए। कारगिल की नजीर हमारे सामने है। वहां फौज जब कमान अपने हाथ में लेना चाहती है, तब कश्मीर को निशाना बनाती है।
राधिका शाही, ई-55, नेहरू विहार, दिल्ली

परवरिश
बच्चों को
जीवन में
नहीं कोई होड़ दो।
नींव मजबूत कर
आजाद छोड़ दो।
शरद जायसवाल, कटनी (मध्य प्रदेश)

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लक्ष्मण के साथ अन्याय