DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डेढ़ महीने में उखड़ जाएगी सरकार: साइमन

जिसका अंदेशा था वही हुआ। साइमन मरांडी, लोबिन हेंब्रम तथा टेकलाल महतो को सरकार में जगह नहीं मिली। इससे विधायकों का गुस्सा फूट पड़ा है। शपथ ग्रहण समारोह के बाद तीनों विधायक साइमन मरांडी के यहां पहुंचे थे। करीब डेढ़ घंटे तक बंद कमरे में चारो विधायकों ने मंत्रणा की। मंत्रणा के बारे में बताया कि आगे की रणनीति बना रहे हैं।

साइमन मरांडी ने कहा है कि डेढ़ महीने में सरकार का खूंटा उखड़ना शुरू हो जाएगा। साइमन के साथ नलिन सोरेन तथा टेकलाल महतो ने भी सुर मिलाया है। ये विधायक शपथ ग्रहण समारोह में शामिल नहीं हुए। बकौल साइमन पार्टी में अब शिबू नहीं हेमंत की ही चलती है। वह पार्टी और सरकार दोनों को ले डुबेंगे।

गुरुजी के जितने लोग करीबी थे, अनुभवी थे, सीनियर थे सबको किनारे कर दिया गया। आगे क्या करेंगे, सवाल पर साइमन ने कहा कि कभी भी कोई निर्णय ले सकते हैं। 12 लोग को एकजुट करना है। कई लोग टेलीफोन से संपर्क कर रहे हैं। मंत्री नहीं बनाने के लिए स्टिंग ऑपरेशन को लेकर हुए केस को आधार बनाया गया है, इसपर मरांडी ने कहा कि गुरुजी पर भी तो केस था, तीन बार सीएम बने थे। बलपूर्वक सरकार का गठन हुआ है। लेकिन इस तरीके से चलने वाला नहीं।

सीनियर को छला गया है: लोबिन हेंब्रम
लोबिन हेंब्रम ने कहा है कि एकतरफा फैसला हुआ है। किसी से रायशुमारी नहीं की गई। अंत तक सबकपुछ परदे में रखा गया। लगता है कि कुछ लोग शिबू सोरेन को गुमराह कर पार्टी का नुकसान करने में लगे हैं। उन्हें ही सरकार से बाहर किया गया जो शिबू सोरेन के पुराने सिपाही रहे हैं। आगे क्या करेंगे, सवाल पर लोबिन ने कहा कि यह तो समय बतायेगा। साइमन के यहां वेलोग जुटे थे। बातें हुई है। उसे आगे बढ़ाना है।

कभी भी कुछ हो जाएगा: नलिन सोरेन
नलिन सोरेन का कहना है कि एकतरफा फैसला है। लगता है कि गुरुजी की भूमिका सिर्फ हस्ताक्षर करने की रह गई है।  हम चारों में से किसी को तो मंत्री बनाना ही चाहिए था। साइमन के यहां क्या मंत्रणा हुई, पूछे जाने पर कहा कि रणनीति पर चर्चा हो रही है। आगे क्या होगा इसके लिए इंतजार करना होगा। साइमन ने तो कहा है कि डेढ़ महीने में खूंटा उखड़ना शुरू हो जाएगा, इस पर नलिन बोले। समय के बारे में नहीं कह सकते। हो सकता है कि विसजर्न के साथ ही सरकार का विसजर्न हो जाए।

डेढ़ महीने बाद असर दिख जाएगा: टेकलाल
टेकलाल महतो का कहना है कि अनुभवी और सीनियर को सरकार से बाहर ही कर दिया गया, तो सरकार कैसे चलेगी। पिछले बार भी ऐसा ही हुआ था। हमलोग गुरुजी को मानते हैं। उनकी सुनते हैं। इसी का यह परिणाम है। टेकलाल अपने क्षेत्र लोट गए हैं। कहा कि रांची की डयूटी खत्म हो गई है। अब क्षेत्र की सेवा में लगेंगे। समय पर सरकार का फैसला हो जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:डेढ़ महीने में उखड़ जाएगी सरकार: साइमन