अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

21 साल पुराने मामले में विधायक समेत दो बरी

जिला जेल के समीप 21 साल पहले मारपीट व धमकी देने के मामले में शुक्रवार को एसीजेएम (नवम) शैलोजचंद्रा की अदालत ने कोलअसला के विधायक व कांग्रेस विधान मंडल दल से सम्बद्ध अजय राय व अवधेश सिंह को साक्ष्य के आभाव में बरी कर दिया। इस मामले के एक अन्य आरोपित अवधेश राय की पहले की हत्या हो चुकी है। कड़ी सुरक्षा के बीच अजय राय की पेशी को लेकर खासी गहमा-गहमी रही।
अभियोजन के मुताबिक 11 सितंबर 1989 को जिला जेल के पास अवधेश राय, अजय राय व अवधेश सिंह ने नदेसर निवासी विजय गुप्ता की पिटाई की। बचाव की गुहार सुनकर आसपास के लोग जुटने लगे तो हमलावर धमकियां देते भाग निकले। जमानत के बाद आरोपित कभी हाजिर नहीं हुए। चेतगंज पुलिस ने 27 अगस्त को अजय राय को गिरफ्तार कर जेल भेजा। बाद में इस मामले में तलबकर रिमांड बनाया गया। कुछ समय बाद अवधेश सिंह भी इस मामले में आत्मसमर्पण कर जेल चला गया। कोर्ट ने 17 सितंबर को दोनों पर आरोप निर्धारित किये। शुक्रवार को गवाही के लिए वादी विजय गुप्ता व गवाह दिनेश श्रीवास्तव को तलब किया गया था। विजय का कहना था आरोपितों ने न तो उसके साथ मारपीट न ही धमकी दी। मौके पर जुटे लोगों के कहने पर उसने मुकदमा लिखवा दिया था। गवाह ने भी पुलिस को किसी तरह का बयान देने से इनकार कर दिया। कोर्ट ने आज 313 व बहस सुनने के बाद फैसला सुना दिया। उधर लूट के मामले में गिरफ्तार आरोपितों को छुड़ाने के लिए थाने के सामने प्रदर्शन करने वाले तीन आरोपित पार्षद शम्भूनाथ बाटुल, अनीसुर्रहमान व राजू राय को हाईकोर्ट के आदेश के साथ बंधपत्र दाखिल किये गये। अदालत ने दोनों को रिहा करने का आदेश दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:21 साल पुराने मामले में विधायक समेत दो बरी