अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ताजमहल देखना सपने के साकार होने जैसा

राष्ट्रमंडल खेलों में मेहमानों के स्वागत के लिए सिर्फ राजधानी ही नहीं बल्कि ताजनगरी आगरा भी पलक पांवड़े बिछाकर स्वागत में जुटी हुई है और पिछले दिनों लगातार हुई बारिश ने भी ताजमहल की सुंदरता में चार चांद लगा दिए हैं।

दुनिया की सबसे खूबसूरत इमारतों में से एक ताजमहल को अब तक दिल्ली राष्ट्रमंडल खेलों में विदेशों से आये सैंकड़ों खिलाडियों और अधिकारियों ने देखा है और 14 अक्टूबर तक चलने वाले इन खेलों के अन्य विदेशी खिलाडियों और अधिकारियों के देखने आने की उम्मीद की जा रही है।

राष्ट्रमंडल खेलों के लिये दिल्ली आये मेहमानों ने प्रेम के विश्व प्रसिद्ध प्रतीक ताजमहल को देखने के बाद कहा कि ताज को देखना किसी सपने के साकार होने जैसा है। दिल्ली से चली विशेष शताब्दी ट्रेन से आगरा आये अभी तक करीब 280 मेहमानों ने ताज का दीदार कर लिया है।

गत बुधवार को 161 और गुरूवार को 119 मेहमानों ने ताज की मनमोहक तस्वीरें अपनी आंखों में कैद की। शुक्रवार को ताजमहल बंद होने की वजह से यह विशेष रेलगाड़ी आगरा नहीं आयेगी। हालांकि भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग से राष्ट्रमंडल खेलों के अतिथियों को शुक्रवार के दिन ताज को दिखाने की अनुमति मांगी गई थी लेकिन पुरातत्व विभाग ने अनुमति देने से इंकार कर दिया था। शुक्रवार को ताजमहल के साप्ताहिक बंदी का दिन होता है और इस दिन स्थानीय लोग मस्जिद में नवाज अता करते हैं तथा ताज की सफाई भी की जाती है।

गुरूवार को बरमूडा, युगांडा, जमैका, साइप्रस, माल्टा, जिब्राल्टर, मोजांबिक, कनाडा, आस्ट्रेलिया, गुयाना, नामीबिया, तंजानिया आदि राष्ट्रों से 119 प्रतिनिधि आगरा आये। लगभग 30 मिनट की देरी से आयी विशेष एक्सप्रेस गाड़ी से उतरकर यह प्रतिनिधि दल ताज पहुंचा। इन प्रतिनिधियों आगरा में दो घंटे का समय बिताया। इसके बाद वे ताजमहल के नजदीक शिल्पग्राम में चल रहे आगरा पर्यटन महोत्सव में भारत की सांस्कृतिक पृष्ठभूमि के विभिन्न रंग और आयाम देखे। इन मेहमानों ने शिल्पग्राम में जमकर खरीददारी की। इसके बाद यह दल विशेष रेलगाड़ी द्वारा वापस दिल्ली के लिये रवाना हो गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ताजमहल देखना सपने के साकार होने जैसा