DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रतिभा मामले में टैक्सी चालक को मौत तक आजीवन कारावास

प्रतिभा मामले में टैक्सी चालक को मौत तक आजीवन कारावास

बीपीओ कर्मचारी प्रतिभा श्रीकांतमूर्ति के साथ दुष्कर्म और हत्या के मामले में पांच साल लंबे मुकदमे के बाद एक अदालत ने आरोपी टैक्सी चालक शिव कुमार को मौत तक आजीवन कारावास की सजा सुनाई है।

इस मामले ने देश भर में आईटी सेक्टर में काम करने वाली महिलाओं की सुरक्षा पर सवाल खड़े कर दिए थे। 11वीं फास्ट ट्रैक अदालत के न्यायाधीश बी वी गुडडली ने आरोपी को मौत तक आजीवन कारावास की सजा सुनाई।

उन्होंने धारा 366 के तहत अपहरण के आरोप में आरोपी को 10 साल के सश्रम कारावास और उस पर 10,000 रुपये का जुर्माना भी लगाया। ऐसा न कर पाने पर उसे एक साल और सश्रम कारावास की सजा काटनी होगी।

चालक को धारा 376 के तहत दुष्कर्म के आरोप में भी 10 साल सश्रम कारावास की सजा भुगतनी होगी। इस आरोप में उस पर 20,000 रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है, यह जुर्माना न भुगतने की स्थिति में उसे दो साल और सश्रम कारावास भोगना होगा।

प्रतिभा की मां गोवरम्मा ने आरोपी वाहन चालक के लिए मौत की सजा की मांग की थी। सजा सुनने के बाद उन्होंने कहा कि मैं संतुष्ट हूं। हालांकि उन्होंने कहा कि उनकी खुशी उनकी बेटी की हत्या के साथ ही चली गई थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:प्रतिभा मामले में टैक्सी चालक को मौत तक आजीवन कारावास