DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महिला रिकर्व टीम को स्वर्ण, पुरुषों को कांस्य

महिला रिकर्व टीम को स्वर्ण, पुरुषों को कांस्य

राष्ट्रमंडल खेलों में देश की महिला तीरंदाज़ों ने शुक्रवार को इतिहास रचते हुए रिकर्व स्पर्धा का स्वर्ण पदक हासिल किया वहीं पुरुष टीम को कांस्य पदक से ही संतोष करना पड़ा। ऑस्ट्रेलिया ने मलेशिया को हराकर स्वर्ण पर कब्ज़ा किया।

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हुए सेमीफाइनल मुकाबले में अगर भारतीय खिलाड़ी अपने कोच लिम्बा राम का सबक याद रखते तो उन्हें कम से कम रजत पदक प्राप्त हो सकता था।

यमुना स्पोर्ट्स काम्पलेक्स में भारतीय टीम को सेमीफाइनल में ऑस्ट्रेलिया के हाथों 211-216 के अंतर से हार झेलनी पड़ी थी। इससे निराश न होकर जयंत तालुकदार, तरुणदीप रॉय और राहुल बनर्जी ने तीसरे स्थान के लिए खेले गए मुकाबले में इंग्लैंड को 224-218 से पराजित किया।

ऑस्ट्रेलिया से उलट इन खिलाड़ियों ने इंग्लैंड के खिलाफ अच्छा खेल दिखाया जबकि सेमीफाइनल मुकाबले में वे अपने कोच और धुरंधर तीरंदाज़ लिम्बा राम की सबक भूल गए थे। कोच ने गुरुवार को कहा था कि वह महिला टीम से अधिक पुरुष टीम से स्वर्ण पदक की उम्मीद कर रहे हैं लेकिन महिलाओं ने दो कदम आगे निकलते हुए अपना निशाना सही साधा जबकि पुरुष अपेक्षाओं पर खरे नहीं उतरे।

मलेशिया ने दूसरे सेमीफाइनल में इंग्लैंड को 217-213 से पराजित किया था। दूसरी ओर महिला टीम ने शुक्रवार को इंग्लैंड को एक अंक के अंतर से हराकर स्वर्ण जीता। भारत ने 207 अंक जुटाए जबकि इंग्लैंड की टीम 206 अंक ही जुटा सकी।

राष्ट्रमंडल खेलों के इतिहास में भारतीय तीरदाज़ों ने पहली बार स्वर्ण जीता है। वैसे भारतीय तीरंदाज़ अब तक 19वें राष्ट्रमंडल खेलों में एक स्वर्ण, एक रजत और एक कांस्य पदक जीत चुके हैं। महिला टीम में पूर्व विश्व चैम्पियन डोला बनर्जी, दीपिका कुमारी और बोम्बाल्या देवी शामिल हैं। इन तीनों खिलाड़ियों ने भारत को राष्ट्रमंडल खेलों का 15वां स्वर्ण पदक दिलाया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:महिला रिकर्व टीम को स्वर्ण, पुरुषों को कांस्य