DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डीडीए पर पड़ी दोहरी मार

सीरी फोर्ट वन क्षेत्र में हरे भरे पेड़ गिराकर इन्डोर स्टेडियम, पार्किंग स्थल और अप्रोच रोड के निर्माण को सुप्रीम कोर्ट की सेंटल इंपावर्ड कमेटी ने पूरी तरह अवैध घोषित किया है। पर्यावरण का नाश करने पर कमेटी ने डीडीए को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि डीडीए का पूरा प्रोजेक्ट ही त्रुटिपूर्ण है, इसे यहां होना ही नहीं चाहिए था। कमेटी की राय है कि सभी निर्माण गिराकर पूर क्षेत्र को वापस लिया जाए और उसका पुनर्वास किया जाए, लेकिन कामनवेल्थ गेम्स को देखते हुए कमेटी को उदार रुख अपना पड़ रहा है। लेकिन इस निर्माण से पर्यावरण को भीषण नुकसान हुआ है, इसकी भरपाई के लिए डीडीए पर पांच करोड़ रुपये को जुर्माना लगाया जाए। इस क्षेत्र में अब जो भी निर्माण होगा वह नक्शे के मुताबिक होगा जिस पर सरकार तथा स्थानीय नागरिकों की उच्च स्तरीय कमेटी निगाह रखेगी। मामले की सुनवाई शुक्रवार को फॉरस्ट बेंच करगी। सूत्रों के अनुसार सुप्रीम कोर्ट को सौंपी रिपोर्ट में सेंट्रल इंपावर्ड कमेटी (सीईसी) ने कहा कि आश्चर्य की बात है कि डीडीए का प्रोजेक्ट सिर्फ सवा दो एकड़ क्षेत्र में है लेकिन डीडीए ने इसके लिए 27.70 एकड़ में हर-भर वन को निर्दयता से तहस-नहस कर दिया। और तो और डीडीए ने इन पेड़ों को के बदले मुआवजा स्वरूप 80 पेड़ भी नहीं लगाए, डीडीए की यह गंभीर चूक है। इसके लिए इसे माफ नहीं किया जा सकता। रिपोर्ट में कमेटी ने दिल्ली के वन विभाग को भी आड़े हाथों लिया और कहा कि विभाग ने आफिस में बैठे-बैठे ही डीडीए को पेड़ काटने की अनुमति दे दी और मौके का मुआयना नहीं किया, यह बहुत गंभीर गलती है। इसके लिए जिम्मेदार अफसरों पर सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। उधर डीडीए के पूर्व अधिकारी एमएल गौतम ने अब तक की पूछताछ में फ्लैट आवंटन घोटाले के बार में डीडीए के कुछ अधिकारियों सहित 18 लोगों के नाम उाागर किए हैं। यह जानकारी मिलने के बाद पूर मामले की बारीकी से जांच चल रही है।उत्तर प्रदेश के खुर्जा, बुलंदशहर तथा अलीगढ़ गई पुलिस टीम लौट आई है। इस दौरान पुलिस को ठोस दस्तावेज नहीं मिल सके,उन्हें अभी बरामद करना बाकी है। यह जानकारी आर्थिक अपराध शाखा के अतिरिक्त आयुक्त एसबीके सिंह ने गुरुवार को पुलिस मुख्यालय में दी। उन्होंने बताया कि डीडीए फ्लैट आवंटन घोटाले में गौतम से लगातार पूछताछ की जा रही है। गौतम ने दिल्ली के अनेक स्थानों पर रड कराई जिसमें कुछ ठोस दस्तावेज मिले। इनकी जांच की जा रही है। पूछताछ के दौरान उसने करीब 18 लोगों के नाम उाागर किए हैं। इनमें कुछ डीडीए अधिकारी भी हैं। लेकिन वह अभी इस बार में किसी नाम का खुलासा नहीं कर सकते। ये लोग घोटाले में किस स्तर तक जुड़े हुए है इस बात का पता लगाया जा रहा है। फर्ाी बैंक खातों के खोले जाने के संबंध में उन्होंने कहा कि कुछ खातों की बात सामने आ रही है। बैंक से रिकार्ड निकलवाए जा रहे हैं। जसे ही सबूत एकत्रित जाएगें वैसे ही मामला दर्ज किया जाएगा। फिलहाल फर्ाी बैंक एकांउट के संबंध में एक मामला दर्ज किया जा चुका है और दिनेश नामक व्यक्ित को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया कि जांच का दायरा बढ़ गया है और जरूरत पड़ी तो गौतम का रिमांड बढ़वाएंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: डीडीए पर पड़ी दोहरी मार