DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पश्चिमी देशों का ध्यान एशिया के प्रापर्टी बाजार पर

वाणिज्यिक जमीन जायदाद में धन लगाने वाले पश्चिमी निवेशकों की निगाह अब एशिया महाद्वीप और एशिया प्रशांत के बाजारों की ओर आकर्षित हो सकते हैं। यह अनुमान बाजार विशेषज्ञों का है।
    
जमीन जायदाद बाजार का अध्ययन एवं विश्लेषण करने वाली फर्म सीबी रिचर्ड इलिस :सीबीआरई:कैपिटल का अनुमान है कि वाणिज्यिक अचल परिसम्पत्तियों में धन लगाने वाले पश्चिमी निवेशकों का एख अब पश्चिम एशिया, दक्षिण पूर्व एशिया और एशिया प्रशांत क्षेत्र के बाजारों पर हो सकता है।

सीबीआरई इन्वेस्टर्स के कार्यकारी प्रबंध निदेशक (एशिया एवं प्रशांत) इथन पेनर ने कहा कि अचल परिसम्पत्ति का बजार का वास्तविक अर्थव्यवथा की स्थिति से सीधा संबंध है। वह जमीन जायदाद बाजार पर यहां सोमवार को एक सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि अचल सम्पत्ति का बाजार दो प्रमुख तत्वों- वृहद आर्थिक वातावरण और वित्तीय क्षेत्र से संचालित होता है।

सीटी स्केप ग्लोबल ग्रुप में निदेशक चेरिस स्पेलर ने कहा कि समान्यत: उभरते बाजार हाल के वैश्विक लोन संकट से बचे रहे और इन अर्थव्यवस्थाओं की वद्धि दर अच्छी है। ऐसे में इन बाजारों में जमीन जायदाद के कारोबार का भविष्य उज्ज्वल लगता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पश्चिमी देशों का ध्यान एशिया के प्रापर्टी बाजार पर