अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महान व्यक्तित्व लाला लाजपत राय

लाला लाजपत राय भारत के प्रसिद्ध नेताओं में से एक थे, जिन्होंने भारत में ब्रिटिश शासन के खिलाफ लड़ाई लड़ी। उन्हें पंजाब केसरी (पंजाब का शेर) भी कहा जाता था। इनका जन्म 28 जनवरी, 1865 को हुआ था। लाला लाजपत राय का जन्म धुडिके गांव में हुआ था, जो कि वर्तमान समय में पंजाब के मोगा जिले में है। वह मुंशी राधा किशन आजाद और गुलाब देवी के बड़े बेटे थे। उनकी मां ने उनके अंदर नैतिक मूल्यों को कूट-कूट कर भर दिया था।

लाला लाजपत राय 1880 में वकालत की पढ़ाई करने के लिए लाहौर स्थित गवर्नमेंट कॉलेज में पढ़ने गए। कॉलेज में ही वह लाला हंसराज और पंडित गुरु दत्त जैसे देशभक्तों और भावी योद्धाओं के संपर्क में आए। वे तीनों परम मित्र बन गए और स्वामी दयानंद सरस्वती द्वारा गठित आर्य समाज के साथ जुड़ गए। 1885 में गवर्नमेंट कॉलेज से द्वितीय श्रेणी में अपनी वकालत की परीक्षा पास की और हिसार में अपनी कानूनी प्रैक्टिस शुरू कर दी। लालाजी ने कांग्रेस के कार्यक्रमों में भाग लिया। वह हिसार म्युनिसिपेलिटी के सदस्य बने और बाद में सेक्रेटरी  चुने गये। 1892 में वह लाहौर चले गए। लाला लाजपत राय इंडियन नेशनल कांग्रेस के तीन सबसे महत्त्वपूर्ण हिन्दू नेशनलिस्ट सदस्यों में से एक थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:महान व्यक्तित्व लाला लाजपत राय