DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राष्ट्रपति गलती सुधारें तो बनेगी बात : प्रचंड

नेपाल में आए राजनीतिक तूफान के बाद देश के कार्यवाहक प्रधानमंत्री और माआवादी प्रमुख प्रचंड ने बुधवार को पूर्व सहयोगी सीपीएन-यूएमएल के नेता झालानाथ खनल से मुलाकात की। इस बीच करीब एक हजार माओवादियों ने राष्ट्रपति रामबन यादव द्वारा सेना प्रमुख रुकमांगद कटवाल को बर्खास्त करने वाले सरकार के आदेश को वीटो करने के विरोध में पुलिस पर पथराव किया और जमकर नारे बाजी की। उधर खनल स उनके घर पर मिलने पहुंच प्रचंड न कहा कि अगर राष्ट्रपति रामबरन यादव जनरल कटवाल का बरखास्त करन क कैबिनट क निर्णय का अनुमादन नहीं करन की अपनी गलती सुधार लं ता प्रचंड उन्हं सहयाग करन का तैयार हैं। यूएमएल सूत्रां क अनुसार प्रचंड न कहा, ‘मौजूदा राजनीतिक संकट स उबरन क लिए और काई विकल्प नहीं है। हमं दानां दलां क बीच संबंध बढ़ान क लिए बात जारी रखन स काई एतराज नहीं है।’ वार्ता के बाद खनल न पत्रकारां स कहा कि वह सरकार बनान क लिए दलां क बीच सहयाग करन की दिशा मं प्रयास कर रह थ। खनल न कहा कि उन्हांन प्रचंड स नई सरकार बनान मं सहयाग करन का कहा और प्रचंड न उन्हं आश्वस्त किया कि वह प्रक्रिया मं बाधा नहीं डालंग। खनल दश के संभावित प्रधानमंत्री मान जा रह हैं। उन्हं नपाली कांग्रस व अन्य छाट दलां का भी सहयाग प्राप्त है। इस बीच सुरक्षा परिषद ने कहा कि नेपाल के सभी राजनीतिक दल त्याग की भावना से काम करं और मिलजुल कर देश की समस्या की समाधाना करं। परिषद ने नेपाल के हालात पर चिंता जताई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राष्ट्रपति गलती सुधारें तो बनेगी बात : प्रचंड