अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एशियाई खेलों से हट सकते हैं पेस

एशियाई खेलों से हट सकते हैं पेस

दोहा एशियाई खेलों में दो स्वर्ण जीतने वाले देश के नंबर एक युगल खिलाड़ी लिएंडर पेस नवंबर में चीन के ग्वांगझू में होने वाले एशियाई खेलों से हट सकते हैं।
 
12 ग्रैंड स्लेम खिताबों के चैंपियन और एशियाई खेलों में पांच स्वर्ण तथा चार कांस्य पदक जीतने वाले पेस नवंबर में विश्व युगल चैंपियनशिप के एशियाई खेलों की तारीखों से टकराव के कारण ग्वांगझू खेलों से हट सकते हैं।
 
अपने शानदार करियर में युगल का लगभग हर खिताब जीतने वाले पेस अभी तक विश्व युगल चैंपियनशिप खिताब नहीं जीत पाए हैं और वह इस खिताब में अपनी झोली में डालने के लिए बेताब हैं। पेस का मानना है कि वह और उनके चेक गणराज्य के जोड़ीदार लुकास ड्लोही यदि चल जाते हैं तो उनके पास विश्व युगल चैंपियनशिप जीतने का सुनहरा मौका रहेगा।

दुनिया के शीर्ष युगल खिलाड़ियों में से एक पेस दो दशक से अधिक समय से डेविस कप और एशियाई खेलों में भारतीय चुनौती को सफलतापूर्वक संभाल चुके हैं। लेकिन उनका कहना है कि इस बार वह विश्व युगल का खिताब जीतने की पूरी कोशिश करेंगे। पेस ने कहा कि वह कभी भी राष्ट्रीय ध्वज के लिए खेलने से पीछे नहीं हटे हैं। मगर इस बार वह विश्व चैंपियनशिप में खुद को आजमाना चाहते हैं।
 
हालांकि एटीपी ने विश्व की शीर्ष आठ जोड़ियों के बीच होने वाली साल की अंतिम विश्व युगल चैंपियनशिप में पेस और ड्लोही की भागीदारी की पुष्टि नहीं की है लेकिन पेस का मानना है कि अपनी 865 अंकों की बढ़त के साथ वह विश्व चैंपियनशिप में उतर सकते हैं। हालांकि भारत के दो अन्य युगल खिलाड़ियों महेश भूपति और रोहन बोपन्ना भी विश्व चैंपियनशिप के लिए क्वालीफाई करने की होड़ में रहेंगे। बोपन्ना और उनके पाकिस्तानी जोड़ीदार ऐसाम उल हक कुरैशी इस समय विश्व टीम रैंकिंग में छठे स्थान पर हैं जबकि भूपति और बेलारूस के मैक्स मिर्नी के पास भी विश्व चैंपियनशिप में खेलने का मौका रहेगा।

भूपति का कहना है कि यदि वह क्वालीफाई कर जाते हैं तो उन्हें अपने जोड़ीदार मिर्नी के हितों को भी देखना होगा कि उनके साथ क्या परिस्थितियां हैं। यदि युगल के यह खिलाड़ी विश्व चैंपियनशिप के लिए क्वालीफाई कर जाते हैं तो एशियाई खेलों में भारत की टेनिस में पदक जीतने की उम्मीदों को गहरा झटका लगेगा। भारत ने एशियाई खेलों में टेनिस में अब तक 17 पदक जीते हैं और पेस की इनमें से नौ पदकों में भूमिका रही है।
 
पेस ने 1990 में पेइचिंग में टीम कांस्य पदक जीता था। उन्होंने 1994 में हिरोशिमा में एकल कांस्य, टीम स्वर्ण और युगल स्वर्ण जीता था। बैंकॉक में 1998 में उनके हाथ कांस्य पदक आया था जबकि 2002 बुसान खेलों में उन्होंने भूपति के साथ युगल का स्वर्ण और सानिया मिर्जा के साथ मिश्रित युगल का कांस्य जीता था। दोहा में 2006 में पेस ने भूपति के साथ युगल का स्वर्ण और सानिया के साथ मिश्रित युगल का स्वर्ण जीता था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एशियाई खेलों से हट सकते हैं पेस