अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एनजीबीयू में जल्द शुरू होगी दूरस्थ शिक्षा

नेहरू ग्राम भारती विश्वविद्यालय (एनजीबीयू) ने ग्रामीण क्षेत्र में शिक्षा को सुगम करने के लिए एक और कदम उठाया है। विश्वविद्यालय ने परंपरागत शिक्षा पद्धति के साथ ही अब दूरस्थ शिक्षा के जरिए भी पाठ्यक्रम संचालित करने की योजना तैयार की है। इसका उद्देश्य सूदूर ग्रामीण क्षेत्र के उन युवकों और युवतियों को उच्च शिक्षा मुहैया कराना है जो संसाधन के अभाव में पढ़ाई नहीं कर पाते हैं। विश्वविद्यालय की ओर से नई दिल्ली स्थित दूरस्थ शिक्षा परिषद (डैक) को प्रस्ताव भेजा गया था। कुलपति प्रो. केपी मिश्र ने बताया कि डैक ने विश्वविद्यालय के संसाधनों का निरीक्षण करने के लिए टीम गठित कर दी है। डैक की ओर से विश्वविद्यालय को भेजे गए पत्र में निरीक्षण के लिए तिथि बताने को कहा गया है।
प्रो. मिश्र को विश्वास है कि उन्हें डैक से दूरस्थ शिक्षा के लिए मान्यता मिल जाएगी। इसबीच विश्वविद्यालय ने अपने शिक्षकों को दूरस्थ शिक्षा के बारे में जानकारी देने के लिए सोमवार को कार्यशाला आयोजित की है। इसका विषय है ग्रामीण परिप्रेक्ष्य में दूरस्थ शिक्षा। इविवि के कार्यवाहक कुलपति प्रो. केजी श्रीवास्तव इसका उद्घाटन करेंगे। हिन्दुस्तानी एकेडमी में यह कार्यशाला सुबह नौ बजे से पांच बजे तक चलेगी। अभी उत्तर प्रदेश राजर्षि टंडन मुक्त विश्वविद्यालय दूरस्थ शिक्षा के जरिए उच्च शिक्षा देता है। सैम हिगिनबॉटम इंस्टीट्यूट ऑफ एग्रीकल्चर, टेक्नोलॉजी एण्ड साइंस ( पूर्व में एग्रीकल्चरल इंस्टीट्यूट) से भी दूरस्थ शिक्षा के जरिए पाठ्यक्रम संचालित किए जाते हैं। इविवि का पत्रचार पाठ्यक्रम एवं सतत शिक्षा संस्थान भी दूरस्थ शिक्षा के जरिए बीए, बीकॉम का पाठ्यक्रम संचालित करता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एनजीबीयू में जल्द शुरू होगी दूरस्थ शिक्षा