अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

माइक्रोफिनांस की ब्याज दर हो सकती है कम: रंगराजन

प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद के अध्यक्ष डा़ सी रंगराजन ने मंगलवार को लु वित्त संस्थान और स्वंय सहायता समूहों (माइक्रोफिनांस) की मौजूदा ब्याज दर में कमी के संकेत दिए।

  
डा रंगराजन सेंटर फॉर माइक्रोफाइनेंस द्वारा आयोजित संगोष्ठी के अवसर पर संवाददाताओं से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि लु वित्त संस्थान और स्वंय सहायता समूह के माध्यम से लोन लेने वाले और लोन का भुगतान करने वालों की क्षमता का आकलन कर उनके मुताबिक ब्याज दर तय की जानी चाहिए।
  
ब्याज दर में कमी की मात्रा के सवाल पर उन्होंने सीधा जवाब देने से बचते हुए कहा कि वे अभी इस कुछ नहीं कह सकते लेकिन कुछ चल रहा है।
 
उन्होंने कहा कि लोन दाताओं की लोन लेने की क्षमता और ऋण का भुगतान करने की क्षमता को नजर अंदाज नहीं किया जाना चाहिए। इस वर्ग के लोगों की अपेक्षा है कि लु वित्त संस्थान और स्वंय सहायता समूह की मौजूदा ब्याज दर में पच्चीस प्रतिशत तक की कमी होनी चाहिए।

    
डा रंगराजन ने कहा कि लोगों का सोचना है कि मौजूदा समय लु वित्त संस्थान और स्वंय सहायता समूह की ब्याज दर इस वर्ग के लोगों की क्षमता के मुकाबले कुछ अधिक है।
    
इससे पहले संगोष्ठी को सम्बोधित करते हुए रंगराजन ने कहा कि मौजूदा दौर में भी ऋण के जरूरतमंदों तक वित्तीय सेवाओं की पंहुच काफी कम है। वित्तीय संस्थानों को इस वर्ग की जरूरतों की ओर ध्यान देने की जरूरत है। उन्होंने लु वित्त संस्थान और स्वंय सहायता समूह क्षेत्र को मजबूती देने पर जोर देते हुए कहा कि इस क्षेत्र में काम कर रहे लोगों की समस्याओं के समाधान की ओर ध्यान देना होगा।
 
 राजस्थान के पूर्व मुख्य सचिव एम एल मेहता ने कहा कि लु वित्त संस्थान और स्वंय सहायता समूह का काम करने वाले लोगों को मदद और सुविधाएं देने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि इस वर्ग के लोगों तक वाणिज्यिक या राष्ट्रीय बैंकों की पंहुच अभी भी नहीं है ऐसे में इस वर्ग तक पंहुच के लिए लु वित्त संस्थान और स्वंय सहायता समूह के लिए काम कर रहे लोगों को प्रशिक्षण देना होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:माइक्रोफिनांस की ब्याज दर हो सकती है कम: रंगराजन