अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मैं तो एकाउंटेंट बनना चाहती थी: खुशबू

मैं तो एकाउंटेंट बनना चाहती थी: खुशबू

‘पगड़ी-एक सम्मान’ ऑनर किलिंग जैसे ज्वलनशील मुद्दे पर आधारित फिल्म है, जिससे नवोदित अभिनेत्री खुशबू अपने करियर का आगाज कर रही है। इससे पहले वह दूरदर्शन पर आने वाले धारावाहिक ‘परीक्षा गुरु’ में भी अभिनय कर चुकी हैं। यूपी के एटा से संबंध रखने वाली खुशबू की परवरिश दिल्ली में ही हुई है। पेश है सविता गर्ग की उनसे हुई बातचीत के कुछ मुख्य अंश:

अपने बारे में कुछ बताइए?
यूं तो मेरी पृष्ठभूमि उत्तर प्रदेश है, लेकिन मेरी परवरिश दिल्ली में ही हुई है। दिल्ली से ही मैंने अभिनय का कोर्स किया है। मेरा फिल्म ‘पगड़ी’ के लिए सेलेक्शन 500 कलाकारों के बीच से हुआ।

क्या आप शुरू से ही अभिनय के क्षेत्र में आना चाहती थीं?
हां, लेकिन अगर मैं फिल्मों में न आती तो एकाउंटेंट होती। हालांकि मेरी हमेशा से यही कोशिश रही कि मैं अभिनय के क्षेत्र में जाऊं।

सामाजिक मुद्दे पर बनी फिल्म से पहल करना कितना सही है?
मुझे लगता है कि शुरुआत तो कहीं न कहीं से करनी ही होती है। ऐसे में मैं तो लकी हूं कि मुझे इतने संवेदनशील मुद्दे पर बनी फिल्म की नायिका बनने का मौका मिला।

ऑनर किलिंग के बारे में आप क्या समझती हैं?
फिल्म में दिखाया गया है कि एक रईस अपनी आन-बान और शान के लिए कुछ भी कर सकता है। मेरा मानना है कि ऑनर किलिंग एक झूठे सम्मान को बरकरार रखने के लिए अपने अहम को बचाने के लिए किए गए कत्ल करने समान है।

आप इस फिल्म में क्या भूमिका निभा रही हैं?
मैं इस फिल्म में खुशबू चौधरी का रोल कर रही हूं, जो एक घमंडी लड़की है और अपने आगे किसी को कुछ नहीं समझती, लेकिन जब वह गरीबी के साये में पले-बढ़े एक लड़के से प्यार करने लगती है तो अपने परिवार से बगावत करने से भी पीछे नहीं हटती।

आपने इस किरदार के लिए क्या कुछ तैयारी भी की थी?
सेट पर तो हम लोग रिहर्सल करते ही थे। साथ ही मैं भी गांव से संबंध रखती हूं तो मुझे ये किरदार निभाने में बहुत ज्यादा मुश्किल नहीं हुई।

क्या आपने रीयल लाइफ में ऐसी कोई घटना देखी है?
मैंने अपने आस-पास तो नहीं देखी, लेकिन हां, मीडिया में आए दिन ऐसी खबरें पढ़ने को मिलती ही हैं।

यह फिल्म क्या दर्शकों को अपनी ओर आकर्षित करने में सफल होगी?
यह तो दर्शकों की पसंद पर निर्भर करता है। हमने अपना काम पूरी ईमानदारी से किया है। मुझे लगता है कि यह फिल्म हमारी टारगेट ऑडियंस को निश्चित रूप से पसंद आएगी।

शूटिंग के दौरान हुए अपने अनुभवों के बारे में बताइए?
मैं शुरुआत में थोड़ी नर्वस थी, लेकिन धीरे-धीरे कैमरे के सामने सहज महसूस करने लगी। शूटिंग के दौरान हमने बहुत कुछ सीखा, साथ ही बहुत मस्ती भी की।

आपकी कोई खास बात जिसे सब बहुत पसंद करते हों?
मुझे लगता है मेरा नेचर। मैं बहुत ही मिलनसार और नटखट हूं।

आपकी रोल मॉडल कौन हैं?
हेमा मालिनी जी मुझे बहुत पसंद हैं। मैं उनकी बहुत बड़ी फैन हूं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मैं तो एकाउंटेंट बनना चाहती थी: खुशबू