DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नक्सलियों पर नकेल, अपराधियों पर लगेगा अंकुश

बिहार विधानसभा चुनाव के मद्देनजर सोमवार को यहां आयुक्त सभागार में बिहार और झारखंड के वरीय पुलिस अधिकारियों की संयुक्त बैठक हुई। इसमें चुनाव को देखते हुए दोनों राज्यों के सीमावर्ती क्षेत्रों में नक्सलियों पर नकेल कसने और अपराधियों पर अंकुश लगाने जैसे कई अहम बिंदुओं पर मैराथन बातचीत हुई। इसमें फरार अपराधियों और असामाजिक तत्वों को भी लिस्टेड किया गया।

शांतिपूर्ण चुनाव संपन्न कराने की गरज से अन्य कई महत्वपूर्ण बिंदुओं पर वार्ता हुई। एक-दूसरे राज्य के अपराध और उग्रवाद से संबंधित मामलों की सूची आदान-प्रदान भी की गई। सुरक्षा के दृष्टिकोण से सूक्ष्मता से एक-एक कर प्रत्येक प्वांइट पर गंभीरता से चर्चा की गई। हर बिंदुओं को बारीकी से खंगाला गया। बैठक की अध्यक्षता कर रहे सेंट्रल जोन पटना के आईजी भृगु श्रीनिवासन ने पुलिस अधिकारियों को कई दिशा निर्देश दिए।

बैठक में तीन जोन के आईजी रेजी डुंगडुंग-रांची, बोकारो जोन के आइजी मनोज मिश्र, उत्तरी छोटानागपुर प्रमंडल के डीआईजी एमएस भाटिया, मगध क्षेत्र के डीआईजी जीतेंद्र कुमार और साहाबाद के डीआईजी, नौ जिले के एसपी भी शामिल थे, जिसमें गया के एसपी पी अमित लोढ़ो, नवादा के एसपी गंगेश्वर प्रसाद सिन्हा, औरंगाबाद के एसपी विवेक राज सिह, रोहतास एसपी विकास वैभव, चतरा एसपी प्रभात कुमार, कोडरमा एसपी जी क्रांति कुमार, हजारीबाग एसपी पंकज कंबोज, गढ़वा एसपी एलफ्रेट लकड़ा और पलामु के एसपी बैठक में शामिल थे।

बैठक में यह निर्णय लिया गया कि 15 दिनों के अंदर सीमावर्ती जिलों में बैठक बुलायी जाएगी, जिसमें डीएसपी, थानाप्रभारी भी शामिल रहेंगे। दोनों राज्यों के सीमावर्ती जिलों के सीमा को चुनाव के दौरान सील भी किया जाएगा। ज्ञात हो कि 9 नवंबर को नवादा में और 20 नवंबर को गया में चुनाव होना चिश्चित हुआ है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नक्सलियों पर नकेल, अपराधियों पर लगेगा अंकुश