अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चित्रकूट में दलित किशोरी से गैंगरेप

एक सनसनीखेज घटना के तहत शनिवार देर रात वहशी दरिंदों ने मानवता को शर्मसार करते हुए दलित किशोरी के साथ गैंगरेप कर डाला। किशोरी घर के बाहर अपने छोटे भाइयों के साथ सो रही थी, तभी तीन युवक उसका मुँह दबाकर उठा ले गए और उसके साथ दुराचार किया। हद तो तब हो गई, जब पुलिस चौकी अपना दर्द सुनाने पहुँचे किशोरी के परिजनों को पुलिस ने भगा दिया। आरोपियों के खिलाफ कोतवाली में बलात्कार की रिपोर्ट दर्ज करा दी गई है। सीओ के मुताबिक मामले की जाँच की जा रही है।

तीर्थ क्षेत्र के सीतापुर निवासी बाबूराम (काल्पनिक नाम) अपनी पत्नी, तीन बेटों और बेटी (रिंकी) के साथ रहता है। दो दिन पहले ही बाबूराम को पुलिस ने अवैध शराब के साथ गिरफ्तार किया था। धर-पकड़ के दौरान उसकी पत्नी भी घायल हो गई थी, जो इलाहाबाद में एक अस्पताल में भर्ती है।

शनिवार रात घर के बाहर रिंकी और उसके तीनों भाई सो रहे थे। रात साढ़े बारह बजे वहाँ तीन युवक आ धमके और रिंकी का मुँह दबाकर उठा ले गए। एक स्थान पर ले जाकर तीनों ने बारी-बारी से उसके साथ दुराचार किया। किशोरी के ममेरे भाई सोमनाथ उर्फ चिन्टू के अचानक गायब होने पर रिंकी की खोजबीन शुरू की गई। इस दौरान वह देर रात साढ़े तीन बजे बदहवास हालत में चौगलिया में रहने वाले अपने फूफा नोखेलाल के घर पहुँची और मामले की जानकारी दी।

फूफा ने उसे उसके घर पहुँचाया। रविवार सुबह सीतापुर चौकी इंचार्ज आईपीएस बुंदेला को घटना की जानकारी दी गई, लेकिन उन्होंने अमानवीयता दिखाते हुए भुक्तभोगियों को ही अपशब्द कहकर भगा दिया। इसके बाद कर्वी कोतवाली में तीन लोगों के खिलाफ बलात्कार की रिपोर्ट दर्ज कराई गई। पुलिस अभिरक्षा में रिंकी का डॉक्टरी परीक्षण कराया गया।

उधर, रिंकी के परिजनों का कहना है कि तीन आरोपियों में से एक को पकड़कर रात में ही पुलिस के हवाले कर दिया गया है। मामले की पड़ताल कर रहे सीओ सिटी उदयशंकर का कहना है कि घटना की जाँच के बाद ही कार्रवाई की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चित्रकूट में दलित किशोरी से गैंगरेप