अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रांची पुलिस के कब्जे में है दो बड़े हथियार तस्कर

रांची पुलिस के कब्जे में दो बड़े हथियार तस्कर हैं। इनके पास से दो कारबाईन और जीवित कारतूस पुलिस बरामद किया है। ये हथियार अपराधी या नक्सलियों तक पहुंचाए जाने थे। हालांकि पुलिस ने इसका खुलासा नहीं किया है। बुंडू पुलिस ने हथियार के आपूर्तिकर्ता विनोद भगत को गिरफ्तार किया। उसके बयान पर पुलिस ने मुरी इलाके में गहन छानबीन शुरू की है।

दो अक्तूबर की रात मुरी स्टेशन पर हटिया पटना ट्रेन, हटिया हावड़ा ट्रेन, रांची टाटा पैसेंजर, तीन अक्तूबर को मौर्य एक्सप्रेस, पाटलीपुत्र एक्सप्रेस और बैजनाथ धार्म एक्सप्रेस की तलाशी भी ली गई, लेकिन पुलिस को न तो हथियार मिला था और न ही तस्कर मिले थे। अचानक विनोद के मोबाइल पर फोन आया। फोन करनेवाले ने यह जानकारी दी कि झालदा से सभी ऑटो से मुरी की ओर आ रहे हैं। ट्रेन और बसों की गहन जांच पुलिस कर रही है इसलिए ऑटो से आना पड़ रहा है।

एएसपी अपूर्वा, सिल्ली थाना प्रभारी केके झा, मुरी ओपी प्रभारी जितेंद्र सिंह, मुरी के आरपीएफ थाना प्रभारी फैजल अहमद, मुरी जीआरपी थाना प्रभारी अमोद नारायण सिंह, बुंडू थाना प्रभारी वेकटेंश कुमार, सुखदेवनगर थाना प्रभारी, एएसपी के अंगरक्षक सतर्क हो गए। 50 हजार में यह सौदा तय हुआ था। पुलिसवाले ही ग्राहक थे। जैसे ही तुलीन के पास ऑटो पहुंचा, ग्राहक बने पुलिसकर्मियों ने पहले हथियार दिखाने को कहा।

ऑटो पर बैठे युवकों ने हथियार दिखाए तो दोनों को काले रंग के स्कॉपियों पर बैठा लिया गया। ग्राहक बने पुलिसवालों ने तस्करों से कहा कि मुरी में पैसा मिल जाएगा। मुरी पहुंचने पर दोनों को पता चला कि वे पुलिस के कब्जे में है। पुलिस पकड़े गए तस्करों को लेकर एसएसपी प्रवीण कुमार के पास पहुंचे। एसएसपी दोनों से लंबी पूछताछ कर रहे हैं। दोनों शक्ल से नेपाली लगते हैं। यह पता लगाने का कोशिश की जा रही है कि ये हथियार अपराधियों को दिए जाने थे या उग्रवादियों को। पुलिस जल्द ही इस मामले में बड़ा खुलासा करेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रांची पुलिस के कब्जे में है दो बड़े हथियार तस्कर