DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एड्स से पीड़ित छात्र ने फाँसी लगाकर दी जान

कैण्ट थाना क्षेत्र के नेवादा में किराए पर रहने वाले एक प्रतियोगी छात्र ने फाँसी लगाकर आत्महत्या कर ली। छात्र के कमरे से एक सुसाइड नोट भी मिला है। जिसमें मौत के कारण का जिक्र किया गया है। सूचना पर पहुँची पुलिस ने दरवाजा तोड़कर शव निकाला। पुलिस ने मऊ में रहने वाले घर वालों को सूचना दे दी है। वहाँ खबर मिलते ही कोहराम मच गया। पुलिस का कहना है घरवाले यहाँ के लिए रवाना हो गए हैं।


मऊ के खुरहट के रहने वाले देवीशरण का बेटा दीपक गुप्ता (25) कैण्ट के नेवादा में किराए पर रहता था। उसने किशन लाल के यहाँ चार मई को किराए पर कमरा लिया। वह सिविल सर्विस परीक्षा की तैयारी कर रहा था। कमरा लेने के दो दिन बाद वह दिल्ली चला गया। अगस्त में वह वापस लौटा। गुरुवार की रात उसने बगल के कमरे में रहने वाले एक छात्र के साथ खाना खाया और अपने कमरे में सोने चला गया। शाम तक जब वह नहीं दिखा तो उसके साथियों को चिंता हुई। एक छात्र ने देखा कि दीपक के कमरे की खिड़की में अखबार रखा हुआ था। उसने खिड़की खोली तो अंदर दीपक फाँसी पर लटका हुआ था। पुलिस को बुलाया गया। पुलिस ने दरवाजा तोड़ा। अंदर कमरे में एक सुसाइड नोट पुलिस को मिला। पुलिस ने घरवालों को सूचना दी।
अपनी मौत का खुद जिम्मेदार हूँ मैं
अपने पूरे होशो हवास में लिख रहा हूं कि मैं अपनी मौत का जिम्मेदार खुद हूँ। मैं दुख के साथ कह रहा हूँ कि मैं अपना, माँ-बाप और परिवार का आईएएस बनने का सपना पूरा नहीं कर सका। मेरी तीव्र महत्वाकांक्षा ने मुङो मौत के मुँह में धकेल दिया। जब मुङो पता चला कि मुङो एचआईवी एड्स है तो मेरे पास कोई विकल्प नहीं बचा। मैं बाबू जी को बहुत प्यार करता हूँ, मेरा परिवार मेरे लिए स्वर्ग  से कम नहीं था। मैंने हमेशा ही बाबू जी की दिल से पूजा की मुङो माफ कर दीजिएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एड्स से पीड़ित छात्र ने फाँसी लगाकर दी जान