DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रावण राज की घोषणा होते ही रामलीला महोत्सव का शुभारम्भ

आज से रावण राज शुरू हो गया है जिस किसी व्यक्ित ने राम का नाम या राम की पूजा अर्चना की उस व्यक्ति के खिलाफ राजा रावण द्वारा दण्डात्मक कार्यवाई की जाएगी। होशियार, खबरदार रावण दूत के अनुसार केवल रावण की पूजा होगी और रावण राज कायम रहेगा। शहर में रावण के दूत की इसी मुनादी के साथ ही रामलीला महोत्सव की शुरूआत हो गई। रावण के दूत की सवारी शहर के विभिन्न मार्गो से होकर निकली।
वहीं रावण के दूत की रावण राज कायम होने की घोषणा सुनने लोगों की मार्गो पर भारी भीडम् रही। श्री सुल्लामल रामलीला कमेटी की ओर से शनिवार को रामलीला महोत्सव के शुभारम्भ के पहले दिन रावण के दूत का भ्रमण शहर के प्रमुख बाजारों व मार्गो से कराया गया। रावण दूत की सवारी का संचालन रामलीला कमेटी के उस्ताद अशोक गोयल ने किया। रावण के दूत की सवारी ठाकुरद्वारा मंदिर से शुरू होकर देहली गेट, चौपला मंदिर, डासना गेट, नया गंज, राइट गंज, घंटाघर बाजारों, रामते राम रोड, जीटी रोड होते हुए कमेटी के कार्यालय पर समाप्त हुई। रावण के दूत की सवारी में अजय गुप्ता, अशोक कुमार शर्मा, राजीव शर्मा, सुभाष चंद्र सहित तमाम लोग मौजूद थे।
वहीं राजनगर स्थित रामलीला समिति की ओर भूमि पूजन व सुंदरकाण्ड का आयोजन हुआ। भूमि पूजन में विधि विधान के साथ भगवान गणेश व हनुमान के चरण कमलों की प्रार्थना की गई। रामलीला महोत्सव का आयोजन 6 अक्टूबर को गणेश पूजन व शोभा यात्रा के साथ होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रावण राज की घोषणा होते ही रामलीला महोत्सव का शुभारम्भ