अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ियों ने भी किया बापू को याद

दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ियों ने भी किया बापू को याद

दक्षिण अफ्रीका से करीबी तौर पर जुड़े रहे राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को उनकी जयंती पर राष्ट्रमंडल खेलों में भाग लेने आये दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ियों ने भी याद किया और उन्हें श्रद्धांजलि दी।

गांधीजी ने दक्षिण अफ्रीका में नस्लवाद के खिलाफ काफी संघर्ष किया और उस देश में भी उन्हें काफी आदर की नजर से देखा जाता है। राष्ट्रमंडल खेलों में दक्षिण अफ्रीका की अभियान प्रमुख पेशेंस शिकावाम्बा ने बताया कि हमें पता है कि आज गांधीजी का जन्मदिन है। सभी को पता है। यही वजह है कि हमने अपना आज होने वाला कार्यक्रम पहले ही आयोजित करा लिया।

उन्होंने कहा कि हमें यहां उच्चायोग द्वारा आयोजित स्वागत समारोह में शिरकत करनी थी जो आज होना था, लेकिन गांधीजी का जन्मदिन होने के कारण हमने इसे कल ही करा लिया ताकि हम यहां गांधी जयंती के कार्यक्रम में हिस्सा ले सकें।

वहीं मैनचेस्टर राष्ट्रमंडल खेलों की स्वर्ण पदक विजेता तैराक नताली डुटोय ने कहा कि भारत को बचपन से वह गांधीजी के कारण ही जानती थी और उसे खुशी है कि आज के दिन वह उनके देश में है। उसने कहा कि मैने गांधीजी के बारे में बहुत सुना है। भारत में उनका जितना आदर किया जाता है, उतना ही दक्षिण अफ्रीका में भी। मुझे खुशी है कि आज मैं यहां हूं। उस देश में जहां उनका जन्म हुआ।

उधर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 142वीं वर्षगांठ पर शनिवार को पूरे देश के साथ हजारों स्कूली बच्चों सहित पूरी दिल्ली ने उनका जन्मदिन मनाया, भक्ति गीत गाए और उनके समाधि स्थल, राजघाट पर पुष्पांजलि अर्पित की।

इस अवसर पर राष्ट्रपति प्रतिभा पाटील, प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) की मुखिया व कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, अमेरिकी राजदूत टिमोथी रोमर, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी और कई अन्य राजनेताओं ने राजघाट पर 'बापू' को श्रद्धांजलि दी।

इस मौके पर राजघाट को फूलों से सजाया गया है और वहां पर बापू के पसंदीदा भजन 'रघुपति राघव राजा राम' और 'वैष्णव जन तो' की धुन बजाई गई। राजधानी में उत्साह, उमंग और उल्लास के साथ बापू का जन्मदिन मनाया गया। गोल मार्केट स्थित केंद्रीय विद्यालय के कक्षा आठ के छात्र मोइन अहमद कहते हैं कि मैं पिछले तीन सालों से बापू को श्रद्धांजलि देने के लिए राजघाट आता हूं। मैं और मेरे सहपाठी भजन गाते हैं और बापू को श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं।

राजधानी दिल्ली के अलावा देश भर में सभी राज्यों की राजधानी समेत विभिन्न जगहों पर गांधी जयंती के अवसर पर लोगों ने राष्ट9पिता को याद किया और प्रार्थना सभाऐ आयोजित की। बापू का जन्मदिन देशभर में 'गांधी जयंती' के रूप में मनाया जाता है, जबकि दुनियाभर में इसे 'अंतर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस' के रूप में मनाया जाता है। देश की स्वतंत्रता में बापू के अहिंसक संघर्ष का महत्वपूर्ण योगदान रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ियों ने भी किया बापू को याद