DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रोबोट

रोबोट

कहानी : डॉ. वशीकरण (रजनीकांत) उर्फ वशी ने अपने जैसे दिखने वाले एक शक्तिशाली रोबोट चिट्टी (रजनीकांत) का निर्माण किया है, जो हर चीज में परफेक्ट है। डॉ. वशी चिट्टी को भारतीय सेना के हवाले करना चाहते हैं ताकि युद्ध में मरने वाले इंसानों की जानें बचाई जा सकें। वशी चिट्टी में प्यार, गुस्सा, सरीखी मानव खूबियां डालने की कोशिश करता है। अंजाम ये होता है कि वह उसकी प्रेमिका सना (ऐश्वर्या) को चाहने लगता है। यह वशी से देखा नहीं जाता और वह चिट्टी को तहस-नहस कर देता है। 

निर्देशन : शंकर ने इस फिल्म में 150 करोड़ की भव्यता के साथ रजनीकांत को ऐसा किरदार दिया है, जिसके सामने लाजर्र देन लाइफ शब्द भी छोटा पड़ जाए। तकनीक का बेहतरीन इस्तेमाल और कहानी में किसी तरह का कोई भटकाव न होने की वजह से उन्होंने दर्शकों के सामने हिलने तक की गुंजाइश नहीं छोड़ी है।  

अभिनय : रजनीकांत को अच्छे अभिनय के प्रमाण की जरूरत नहीं है। ये देखिए कि उन्होंने 63 साल की उम्र में इस रोल को कैरी किस अंदाज में किया है। वो अपनी उम्र से 20-25 साल पीछे चले गये हैं और ऐश के साथ ठुमके लगा रहे हैं। एक वैज्ञानिक और रोबोट के बीच के तालमेल को उन्होंने हाई वोल्टेज एंटरटेनमेंट में तब्दील कर दिया है, जिसे देख दर्शक सीट से उछले बिना नहीं रह सकते। रोबोट की नई शैली है, जिसमें कसावट के साथ-साथ दिल छेद देने वाली बातें हैं। ऐश केवल सुंदर लगी हैं। डैनी का काम भी सो-सो है। 

गीत-संगीत : इस फिल्म का संगीत साधारण है। इसके लिए रहमान को दोष नहीं देना चाहिए। इस कॉन्सेप्ट के साथ संगीत की गुंजाइश लगभग खत्म सी हो जाती है। फिर भी ‘नैना मिले’ गीत अच्छा है।  

क्या है खास : चिट्टी से जुड़ी हर चीज खास है। उसका देवता जैसा रूप और असुर के रूप में उसका रौद्र रूप ये सोचने पर मजबूर कर देता है कि आखिर ये सब हो कैसे रहा है। इसके अलावा स्पेशल इफेक्ट्स, स्टंट्स, एक्शन आला दर्जे के हैं।

क्या है बकवास : जब स्क्रीन पर रजनीकांत हों तो एक्शन सीन्स में तुक की उम्मीद करना बेकार है। विभिन्न सीन्स में बस यही बात चुभती है।   

पंचलाइन : तकनीक पंच के मामले में ‘रोबोट’ हॉलीवुड फिल्मों को टक्कर देती है। इसके अलावा रजनीकांत की एक्टिंग भी देखने लायक है। अगर इसको नहीं देखा तो कुछ नहीं देखा। डोन्ट मिस!

सितारे : रजनीकांत, ऐश्वर्य रॉय, डैनी

निर्माता : कलानिधि मारन

निर्देशक : शंकर

गीत :  स्वानंद किरकिरे

संगीत : ए. आर. रहमान

सपना जैन: अच्छी मूवी है। इफेक्ट्स काफी अच्छे लगे। रजनी-ऐश की जोड़ी अच्छी है।

आयुष, छात्र:  एक्शन सीन्स बहुत अच्छे हैं। पूरी फिल्म देखने लायक है। रोबोट काफी अच्छा है।

प्रशांत:  मुझे तो कोई खास फिल्म नहीं लगी। बेसिर पैर के स्टंट्स हैं। टाइम वेस्ट।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रोबोट