DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजद ने फिर नीतीश सरकार पर की सवालों की बौछार

 राजद ने नीतीश सरकार पर फिर सवालों की झड़ी लगा दी है। राष्ट्रीय प्रवक्ता इलियास हुसैन ने एनडीए सरकार पर ग्रामीण अर्थव्यवस्था के साथ खिलवाड़ करने का आरोप लगाया है। शुक्रवार को प्रेस कांफ्रेंस में उन्होंने सरकार से 21 सवाल करते हुए इसका जवाब मांगा है।


उन्होंने कहा कि क्या बिहार की औसत कृषि उत्पादकता दर पंजाब के मुकाबले एक तिहाई नहीं है? 2000-01 और 2004-05 तक राजद शासनकाल में कृषि विकास दर 7.74 फीसदी था, क्या अब यह गिरकर -0.64 नहीं हो गया? क्या 2006-07 में राज्य का कृषि विकास दर -12.53 पर नहीं था?2009-10 में कृषि विकास दर -17.62 नहीं हुआ? क्या राज्य का प्रति व्यक्ति आय दर बढ़ाने के लिए 2008-09 के कृषि विकास दर में परिवर्तन कर इसे ऋणात्मक -6.70 से धनात्मक 13.33 नहीं बनाया गया? किसानों को सिंचाई के लिए छह घंटे बिजली मिल रही है? कृषि यांत्रीकरण के तहत अनुदान का खेल खेलते हुए किसानों को बाजार मूल्य पर ही कृषि यंत्र उपलब्ध नहीं कराये गए? किसानों को अप्रमाणित बीज देकर आत्महत्या के कगार पर नहीं पहुंचाया गया? मुख्यमंत्री की सहमति के बाद भी आलू उत्पादकों को सड़े हुए आलू के फसल के मुआवजे से वंचित नहीं किया गया? क्या किसानों की मुआवजा राशि हड़पने वाले एक कोल्ड स्टोरेज को तोड़कर अपार्टमेंट बनाने के विरूद्ध जान बूझकर कार्रवाई नहीं की गई? नरेगा योजना के पैसे प्रशासनिक मिलीभगत से ठेकेदारों को नहीं सौपे गए? बटाईदारी कानून का आइना दिखाकर भूमिपतियों व गरीब किसानों के बीच संघर्ष के बीज नहीं बोये गए? क्या गरीबों को गैरमजरुआ जमीन का पर्चा देने का सब्जबाग दिखाकर नहीं ठगा गया? कई अन्य सवाल भी किए। कांफ्रेंस में कार्यालय प्रभारी चंदेश्वर प्रसाद भी मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:राजद ने फिर नीतीश सरकार पर की सवालों की बौछार