DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वॉटसन का शतक लेकिन ज़हीर ने ऑस्ट्रेलिया को झकझोरा

वॉटसन का शतक लेकिन ज़हीर ने ऑस्ट्रेलिया को झकझोरा

ओपनर शेन वॉटसन (नाबाद 101) के शानदार शतक और उनकी कप्तान रिकी पोंटिंग (71) के साथ शतकीय साझेदारी के बावजूद ऑस्ट्रेलिया भारत के खिलाफ पहले क्रिकेट टेस्ट के पहले दिन शुक्रवार को मज़बूत स्थिति में नहीं पहुंच सका। तेज़ गेंदबाज़ ज़हीर खान ने ऑस्ट्रेलिया को तीन झटके देते हुए भारत को अच्छी स्थिति में पहुंचा दिया।
 
पहले दिन के खेल की समाप्ति पर ऑस्ट्रेलिया ने अपने पांच विकेट 224 रन पर खो दिए थे। ज़हीर दिन के सबसे सफल भारतीय गेंदबाज़ रहे और उन्होंने 16 ओवर में 45 रन पर तीन विकेट लेकर ऑस्ट्रेलिया को हावी होने से रोक दिया। खेल समाप्ति पर वॉटसन 279 गेंदों में आठ चौकों की मदद से 101 रन बना कर क्रीज़ पर थे जबकि टिम पेन एक रन बना कर उनका साथ दे रहे थे।
 

ज़हीर ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरे ऑस्ट्रेलिया को 13 रन के स्कोर पर उस समय झटका दे दिया जब उन्होंने साइमन कैटिच (06) को पगबाधा कर दिया लेकिन इसके बाद वॉटसन और पोंटिंग ने दूसरे विकेट के लिए 141 रन की बड़ी साझेदारी की।
 
इस समय ऑस्ट्रेलिया काफी मज़बूत स्थिति में नज़र आ रहा था लेकिन पोंटिंग के रन आउट होने ने जो फ्लड गेट खोला उसके बाद ऑस्ट्रेलिया ने तीन विकेट काफी जल्दी जल्दी गंवा दिए। पोंटिंग ने 154 मिनट क्रीज़ पर रह कर 124 गेंदों का सामना किया और अपनी पारी में 10 चौके लगाए।
 
टीम में आखिरी समय में शामिल किए गए ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह ने माइकल क्लार्क (14) को राहुल द्रविड के हाथों कैच कराया जबकि ज़हीर ने माइकल हसी (17) को पगबाधा करने के बाद मार्क्‍स नार्थ (शून्य) को बोल्ड कर दिया।

ऑस्ट्रेलिया एक विकेट पर 154 रन की सुखद स्थिति से अचानक ही लड़खड़ाकर पांच विकेट पर 222 रन की स्थिति पर पहुंच गई। ऑस्ट्रेलिया को इस स्थिति में पहुंचाने का श्रेय ज़हीर को जाता है जिन्होंने सटीक लाइन और लैंग्थ के साथ गेंदबाज़ी की।
 
क्लार्क ने 14 रन बनाने के लिए 39 गेंदें खेलीं और दो चौके लगाए जबकि हसी 104 मिनट क्रीज़ पर रहकर 76 गेंदों का सामना करने के बाद सिर्फ 17 रन ही बना सके। ऑस्ट्रेलिया ने टॉस जीतकर पहले खेलते हुए लंच तक एक विकेट पर 101 रन और चायकाल तक तीन विकेट पर 179 रन बनाए थे। एक छोर मज़बूती से संभाल कर खेल रहे वॉटसन ने अपना दूसरा टेस्ट शतक चायकाल के बाद 258 गेंदों में आठ चौकों की मदद से पूरा किया।
 
भारत की तरफ से ज़हीर ने 45 रन पर तीन विकेट और हरभजन ने 69 रन पर एक विकेट लिया। लेफ्ट आर्म स्पिनर प्रज्ञान ओझा ने काफी कंजूसी के साथ गेंदबाज़ी की और 31 ओवर में 12 मेडन रख सिर्फ 39 रन दिए लेकिन उन्हें कोई सफलता हासिल नहीं हुई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वॉटसन का शतक लेकिन ज़हीर ने ऑस्ट्रेलिया को झकझोरा