DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फैसले के बाद शांति की अप्रवासियों ने की सराहना

फैसले के बाद शांति की अप्रवासियों ने की सराहना

भारतीय अमेरिकी समुदाय ने अयोध्या में रामजन्मभूमि-बाबरी मुद्दे पर इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले के बाद शांति और सदभाव बनाए रखने के लिए भारत के लोगों की सराहना की।

हाईकोर्ट की लखनऊ पीठ द्वारा गुरुवार को दिए गए फैसले पर मुस्लिम अप्रवासी भारतीयों ने जहां निराशा जतायी वहीं हिंदुओं ने इसका स्वागत करे हुए कहा कि इससे वहां राम मंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त होगा।

हिंदू अमेरिकन फाउंडेशन के असीम शुक्ला ने दी वाशिंगटन पोस्ट के ब्लॉग आन अर्थ में कहा कि हिंदुओं के दावे पर कानून की मोहर से एक ऐतिहासिक संघर्ष खत्म हो गया है। लेकिन इससे बड़ी बात शांति की है जो भारत में है।

हिंदू स्वयंसेवक संघ के अध्यक्ष वे नंदा ने एक बयान में कहा कि अमेरिका में बसे हिंदू ईमानदारी से उम्मीद करते हैं कि यह भारत में हिंदू-मुस्लिम संबंधों के एक नए युग की शुरुआत होगी।

दी फाउंडेशन आफ हिंदू रिलीजियस स्टडीज ने भारत में सभी वर्गों के शांतिप्रिय लोगों से अपील की है कि वे हाईकोर्ट के फैसले को गरिमापूर्ण तरीके से स्वीकार करें और शानदार राम मंदिर के निर्माण में हिंदुओं के साथ योगदान करें।

इस बीच, अमेरिकन फेडरेशन ऑफ मुसलिम्स ऑफ इंडियन ओरिजिन ने अयोध्या फैसले के दिन शांति बनाए रखने के लिए भारत की जनता को बधायी दी है। लेकिन इसके साथ ही फैसले पर निराशा जाहिर की है।

संगठन ने विवाद के सभी पक्षों से अपील की है कि वे कानूनी प्रक्रिया को जारी रहने दें और सुप्रीम कोर्ट के अंतिम फैसले को स्वीकार करें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:फैसले के बाद शांति की अप्रवासियों ने की सराहना