अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फैसले पर सियासत, मुलायम ने कहा निर्णय निराशजनक

अयोध्या मुद्दे पर इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ पीठ के गुरुवार को आए फैसले को जहां आम जनता और धार्मिक गुरुओं ने शांति, अमन और सौहार्द के साथ स्वीकार किया, वहीं इसे आधार बनाकर सियासत को गरमाने की कवायद शुरू हो गई है।

इस फैसले को निराशाजनक बताते हुए समाजवादी पार्टी [सपा] अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने कहा कि इस निर्णय में कानून व सुबूत पर आस्था भारी पडी़ है, वहीं उनके इस बयान को भारतीय जनता पार्टी [भाजपा] ने स्तब्धकारी तथा अदालत पर टिप्पणी बताया है।
 
यादव ने शुक्रवार को पत्रकारों से कहा कि यह निर्णय आस्था के आधार पर दिया गया है। यह देश संविधान और खुद न्यायपालिका के लिए अच्छा संकेत नहीं है। सम्भवत: यह पहला मौका है जब यादवने प्रेस कान्प्रेंन्स में अपने 17 लाइन के बयान को पढ़कर सुनाया और कहा कि वह किसी सवाल का जवाब नहीं देगे और न ही इस लिखित बयान के अलावा और कुछ कहेंगे।
 
सन 1980 और 1990 के दशक में चले राम मंदिर आन्दोलन के दौरान यादव ने भारतीय राजनीति में अपनी पकड़ मजबूत की थी। उन्होंने अदालत के फैसले को निराशाजनक बताते हुए कहा कि मुसलमान इस फैसले से ठगा महसूस कर रहा है।

उधर अयोध्या विवाद पर कोर्ट के फैसले के बाद जनता द्वारा शांति और सदभाव बनाये रखने पर संतोष व्यक्त करते हुए केन्द्र सरकार ने कहा कि इस फैसले का कार्यान्वयन आज नहीं होने जा रहा है इसलिए अदालती फैसले पर टिप्पणी करने की आवश्यकता नहीं है।

केन्द्रीय गृह मंत्री पी चिदंबरम ने कहा कि यह फैसला हालांकि महत्वपूर्ण है, लेकिन आज कार्यान्वित नहीं होने जा रहा है। प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने भी कहा है कि इस समय सही निष्कर्ष यही है कि जब तक मामले पर उच्चतम न्यायालय विचार नहीं करता, यथास्थिति बरकरार रखी जाएगी।
 
उन्होंने उम्मीद जतायी कि आने वाले कुछ दिन में कोई न कोई पक्ष उच्चतम न्यायालय में अपील करेगा और शीर्ष अदालत इस पर संज्ञान लेकर कोई अंतरिम आदेश जारी करेगी। चिदंबरम ने कहा कि अयोध्या विवाद पर फैसले के बाद देश भर में कानून व्यवस्था की स्थिति बनी रही और शांति कायम रही। कहीं से किसी घटना की खबर नहीं है। सरकार इस बात से संतुष्ट है कि जनता ने फैसले को काफी मर्यादित ढंग से लिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:फैसले पर सियासत, मुलायम ने कहा निर्णय निराशजनक